S M L

पर्यावरण के मामले में ‘असाधारण रूप से दूरदर्शी’ थीं इंदिरा: जयराम रमेश

जयराम रमेश ने कहा कि गांधी ने जलवायु परिवर्तन और वनों की कटाई के विषय पर 1970 के दशक के शुरुआत में बात की, जब यह फैशन में नहीं था

Bhasha Updated On: Jul 20, 2018 06:28 PM IST

0
पर्यावरण के मामले में ‘असाधारण रूप से दूरदर्शी’ थीं इंदिरा: जयराम रमेश

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने  कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ‘असाधारण रूप से एक दूरदर्शी’ थीं जिन्होंने 1970 के दशक में जलवायु परिवर्तन और वनों की कटाई के बारे में बात की जिस समय यह फैशन में नहीं था.

रमेश ने अपनी पुस्तक ‘इन्टर्टवाइंड लाइव्स: पी एन हक्सर एंड इंदिरा गांधी’ पर एक चर्चा में कहा कि इंदिरा गांधी एक जन्मजात पारिस्थितिकीविद् थीं और वह देश की पहली और आखिरी प्रधानमंत्री बनीं जिसने शासन के मामले में परिस्थितिकी को गंभीरता से लिया. हक्सर 1967 से 1973 तक गांधी के प्रधान सचिव और नजदीकी सहयोगी थे.

रमेश ने इस विषय को लेकर इंदिरा गांधी की प्रतिबद्धता का एक उदाहरण देते हुए कहा कि जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित 90 राष्ट्र प्रमुखों ने 2015 में पेरिस में आयोजित संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन में हिस्सा लिया, वहीं गांधी ने 1972 में आयोजित मानव पर्यावरण पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन में हिस्सा लिया था.

राज्यसभा सांसद ने कहा, ' एक पर्यावरण मंत्री के तौर पर मैं गांधी द्वारा पर्यावरण और पारिस्थितिकी संतुलन बनाए रखने से बहुत प्रभावित था और आज हमारे पास पर्यावरण के लिए जो कानून हैं, जैसे वायु प्रदूषण नियंत्रण कानून, वन्यजीव संरक्षण कानून, जल प्रदूषण नियंत्रण कानून और वन संरक्षण कानून, ये सब उनके समय बने थे.’

उन्होंने इंदिरा गांधी को परिस्थितिकी और पर्यावरण जैसे विषयों पर ‘असाधारण रूप से दूरदर्शी ’ बताया और कहा कि गांधी ने जलवायु परिवर्तन और वनों की कटाई के विषय पर 1970 के दशक के शुरुआत में बात की, जब यह फैशन में नहीं था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
'हमारे देश की सबसे खूबसूरत चीज 'सेक्युलरिज़म' है लेकिन कुछ तो अजीब हो रहा है'- Taapsee Pannu

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi