S M L

इंदिरा गांधी की दो गंभीर गलतियां थीं ‘आपातकाल’ और ‘ऑपरेशन ब्लू स्टार’: नटवर सिंह

नटवर सिंह ने साल 1966 से 1971 तक इंदिरा गांधी के प्रधानमंत्रित्व काल में सिविल सेवा के अधिकारी के तौर पर अपनी सेवाएं दी हैं

Updated On: Sep 16, 2018 03:13 PM IST

Bhasha

0
इंदिरा गांधी की दो गंभीर गलतियां थीं ‘आपातकाल’ और ‘ऑपरेशन ब्लू स्टार’: नटवर सिंह

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व विदेश मंत्री कुंवर नटवर सिंह का मानना है कि पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने दो गंभीर गलतियां की हैं. एक 1975 में आपातकाल लागू करना और 1984 में ‘ऑपरेशन ब्लू स्टार’ को अंजाम देने की मंजूरी देकर देना. हालांकि उनका कहना है कि इनके बावजूद वह महान औऱ ताकतवर प्रधानमंत्री और एक विचारशील मानवतावादी थीं.

नटवर सिंह ने साल 1966 से 1971 तक इंदिरा गांधी के प्रधानमंत्रित्व काल में सिविल सेवा के अधिकारी के तौर पर अपनी सेवाएं दी हैं. इसके बाद वह 1980 के दशक में कांग्रेस में शामिल हो गए और राजीव गांधी की सरकार में कैबिनेट मंत्री बने.

पूर्व विदेश मंत्री ने अपनी नई किताब ‘ट्रेजर्ड एपिसल्स’ में पूर्व प्रधानमंत्री के बारे में लिखा है, ‘अक्सर इंदिरा गांधी को गंभीर, चुभने वाली और क्रूर बताया जाता है. कभी-कभार ही यह कहा जाता है कि यह खूबसूरत, ख्याल रखने वाली, सुंदर, गरिमामयी और शानदार इंसान, एक विचारशील मानवतावादी और व्यापक अध्ययन करने वाली थीं.’ सिंह की यह किताब पत्रों का संकलन है.

किताब में माउंटबेटेन से लेकर नेहरू तक के पत्र

कांग्रेस नेता ने अपनी किताब में उन पत्रों को शामिल किया है, जो उन्हें उनके दोस्तों, समकालीनों और सहकर्मियों ने उनके विदेश सेवा के दिनों से लेकर विदेश मंत्री पद पर होने के दौरान तक लिखे. इस किताब में इंदिरा गांधी, ई.एम.फॉर्स्टर, सी. राजगोपालाचारी, लॉर्ड माउंटबेटेन, जवाहरलाल नेहरू की दो बहनें - विजयलक्ष्मी पंडित और कृष्णा हूथीसिंग, आर. के. नारायण, नीरद सी. चौधरी, मुल्क राज आनंद और हान सूयिन के पत्रों को भी शामिल किया गया है.

नटवर सिंह का कहना है कि इन गणमान्य लोगों ने अलग तरह से उनके जीवन पर अपना प्रभाव डाला. जिसकी वजह से दुनिया को देखने का पूर्व प्रधानमंत्री का नजरिया काफी व्यापक और समृद्ध हुआ.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi