S M L

दर्दनाक! पहले मौत की खबर देने में की देरी, अब शव के लिए कराया जा रहा इंतजार

इराक में मारे गए भारतीयों के परिवार वालों के लिए अभी भी स्थिति किसी ट्रॉमा से कम नहीं है

FP Staff Updated On: Mar 22, 2018 10:27 AM IST

0
दर्दनाक! पहले मौत की खबर देने में की देरी, अब शव के लिए कराया जा रहा इंतजार

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने मंगलवार को संसद में इराक के मोसुल में लापता हुए 39 भारतीयों की मौत की पुष्टि की. उनके इस बयान के बाद अपने करीबियों के इंतजार में बैठे लोगों की सभी उम्मीदें टूट गईं. सवाल उठे कि सरकार ने लापता भारतीयों की मौत की पुष्टि करने में इतना लंबा वक्त क्यों लगाया. पर आपको ये जानकर हैरानी होगी कि पीड़ित परिवारों के लिए अभी भी स्थिति किसी ट्रॉमा से कम नहीं है.

इराक में मारे गए भारतीयों में से दो के परिजन बुधवार को पूरा दिन एयरपोर्ट पर उनके पार्थिव शरीर का इंतजार करते रहे. लेकिन उनके पार्थिव शरीर परिवार को नहीं मिल पाए. इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, प्रशासन द्वारा उनसे मंगलवार को कहा गया था कि पार्थिव शरीर बुधवार सुबह अमृतसर एयरपोर्ट पहुंचेगा. मंगलवार शाम को नवनशहर के डिप्टी कमिश्नर अमित कुमार ने एक नोट जारी कर कहा था कि इराक में मारे गए जगतपुर गांव के परविंदर कुमार और मेहंदपुर गांव के जसबीर सिंह के शव बुधवार सुबह 10 बजे अमृतसर एयरपोर्ट पहुंचेंगे. उन्होंने पीड़ित परिवार वालों को एयरपोर्ट ले जाने का काम दो दो अधिकारियों सौंपा.

परविंदर कुमार के पिता जीत राम का कहना है कि डिप्टी कमिश्नर हमारे पास मंगलवार रात करीब 8.30 बजे आए थे. उन्होंने हमें बताया कि शव बुधवार की सुबह एयरपोर्ट पहुंचेंगे. लेकिन एयरपोर्ट पहुंचने के बाद उनसे कहा गया कि आज पार्थिव शरीर आने की कोई सूचना नहीं मिली है. लेकिन तब तक दोनों परिवारों ने अपने बच्चों के अंतिम संस्कार के लिए सभी रिश्तेदारों को सूचित कर दिया था और इसकी तैयारियां भी कर ली थी.

गौरतलब है कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा था कि सभी 39 शवों को अमृतसर लाया जाएगा. 39 में 38 शवों के डीएनए सैंपल मैच हुए हैं. जनरल वीके सिंह इराक में मारे गए भारतीयों के पार्थिव शवों को भारत वापस लाने के लिए जाएंगे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi