S M L

इंडियन रेलवे का प्लान: 10वीं और 12वीं पास के लिए 2 लाख वैकेंसी

अगले कुछ सालों में 2 लाख कर्मचारियों को मिलेगी इंडियन रेलवे में नौकरी

Updated On: Aug 24, 2017 08:32 AM IST

FP Staff

0
इंडियन रेलवे का प्लान: 10वीं और 12वीं पास के लिए 2 लाख वैकेंसी

बढ़ते ट्रेन हादसों से सबक लेते हुए इंडियन रेलवे ने अगले कुछ सालों में 2 लाख कर्मचारियों को नौकरी पर रखने का प्‍लान बनाया है. यह रिक्रूटमेंट रेलवे सेफ्टी और ग्राउंड पेट्रोलिंग को मजबूत करने के मकसद से कर रहा है. ऐसे कर्मियों की योग्‍यता सामान्‍य तौर पर 10वीं या फिर 12वीं होती है.

3 सालों में 650 लोगों की मौत

इंडियन रेलवे दुनिया का चौथा सबसे बड़ा रेल नेटवर्क है, जिसमें लगभग 19,000 रेलगाड़ियां रोजाना चलती हैं, बावजूद इसके रेलवे सुरक्षा के मुद्दे को अभी भी गंभीरता से नहीं ले रहा है. आए दिन होने वाली ट्रेन दुर्घटनाएं कई तरह के सवाल पैदा करती हैं. रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले 3 सालों में ट्रेन हादसों में कम से कम 650 लोगों की मौत हुई है.

करीब 16 फीसदी सेफ्टी पोस्ट खाली

खबरों के मुताबिक इंडियन रेलवे में निचले स्तर की करीब 16 फीसदी सेफ्टी पोस्ट खाली हैं जिसकी वजह से 64 हजार किमी के लंबे रेल नेटवर्क के मेन्टेनेन्स और पेट्रोलिंग में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. रेलवे के एक बड़े अधिकारी के मुताबिक अब जल्द ही रेलवे नेटवर्क की मेन्टेनेन्स और पेट्रोलिंग के लिए लोगों की भर्तियां करेगा. साथ ही, गैंगमैन को अंतरराष्ट्रीय मानकों के हिसाब से ट्रेनिंग देने की योजना है. रेलवे 100 से अधिक ट्रैक निरीक्षण व्हीकल खरीदने की योजना भी बना रहा है.

Muzaffarnagar: A mangled coach being hauled off the tracks by a crane on Sunday at the accident site where the Puri-Haridwar Utkal Express train derailed in Khatauli near Muzaffarnagar on Saturday. PTI Photo by Shahbaz Khan (Story DES18) (PTI8_22_2017_000082B)

ट्रैक पर क्रैक का पता लगाने के लिए नई टेक्नोलॉजी का पायलट रन भी किया जाएगा

अधिकारी ने बताया कि एक सेंसर टेक्नॉलजी का पायलट रन भी किया जा रहा है, जिसके जरिए ट्रैक पर हुए किसी भी क्रैक का पता लगाया जा सकता है. अधिकारी ने कहा कि सुरक्षा से संबंधित कामों की फाइनेंशियल जरूरतों को पूरा करने के लिए रेलवे ने 'राष्ट्रीय रेल संरक्षा कोश' बनाने की घोषणा भी की है. साथ ही रेलवे ने आईसीएफ कोचों के उत्पादन को रोकने का भी फैसला किया है क्योंकि इन कोचों में सरक्षा सुविधा मानी जाती है. रेलवे की इन कोशिशों का हादसों को रोकने में कितना असर होता है ये तो अभी नहीं कहा जा सकता.

(साभार न्यूज़ 18)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi