S M L

राष्ट्रवाद-अनुशासन सिखाने के लिए मिलिट्री ट्रेनिंग प्रोग्राम शुरू करेगी सरकार!

सरकार इस ट्रेनिंग प्रोग्राम को डिफेंस, पैरामिलिट्री फोर्स और पुलिस की नौकरी के लिए अनिवार्य बनाने पर भी विचार कर रही है

FP Staff Updated On: Jul 17, 2018 11:16 AM IST

0
राष्ट्रवाद-अनुशासन सिखाने के लिए मिलिट्री ट्रेनिंग प्रोग्राम शुरू करेगी सरकार!

देश के युवाओं में अनुशासन और राष्ट्रवाद जैसे गुण पैदा करने के लिए भारत सरकार हर साल 10 लाख युवाओं को मिलिट्री ट्रेनिंग देने की योजना बना रही है. इंडियन एक्सप्रेस ने ये जानकारी दी है.

रिपोर्ट के मुताबिक, भारत सरकार नेशनल यूथ इम्पॉवरमेंट स्कीम (N-YES) लाने वाली है. सरकार इस ट्रेनिंग प्रोग्राम को डिफेंस, पैरामिलिट्री फोर्स और पुलिस की नौकरी के लिए अनिवार्य बनाने पर भी विचार कर रही है. इस ट्रेनिंग के लिए सरकार कक्षा 10 और 12 से निकले छात्रों, जिन्होंने कॉलेज में एडमिशन लिया है, उन्हें 12 महीने की ट्रेनिंग के लिए भत्ता भी देगी.

रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि इस स्कीम पर जून के अंतिम हफ्ते में प्रधानमंत्री कार्यालय में एक मीटिंग भी हुई है. इस मीटिंग में रक्षा मंत्रालय, युवा मामलों के मंत्रालय और मानव संसाधन विकास मंत्रालय के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया था. इस मीटिंग में रक्षा मंत्रालय के अधिकारी ने एक प्रेजेंटेशन भी दिया था.

इस योजना के तहत युवाओं में अनुशासन और राष्ट्रवाद और आत्मविश्वास जैसे गुण जगाए जाएंगे, जिससे भारत विश्वगुरु बनने की ओर अग्रसर होगा और इससे पीएम मोदी का न्यू इंडिया 2022 भी का लक्ष्य भी आगे बढ़ेगा. इस प्रोग्राम में हिस्सा लेने वालों को वोकेशन और आईटी स्किल, डिजास्टर मैनेजमेंट और योगा, आयुर्वेद-प्राचीन भारतीय दर्शन की शिक्षा दी जाएगी.

एक साल की अवधि वाली इस योजना को फंड देने के लिए सरकार पहले से चलने वाले प्रोग्राम एनसीसी और एनएसएस के बजट का इस्तेमाल करने पर सोच रही है. साथ ही स्किल डेवलपमेंट मिनिस्ट्री और मनरेगा का फंड भी इस्तेमाल किया जा सकता है.

ये भी पता चला है कि पीएमओ मीटिंग में कुछ अधिकारियों ने नया प्रोग्राम शुरू करने की बजाय पहले से चल रहे एनसीसी को ही ज्यादा बेहतर बनाने का सुझाव दिया है. लेकिन इस वक्त मोदी सरकार अपने नौकरी देने का वादा न पूरा करने के चलते आलोचना झेल रही है, जिससे ऐसा लगता है कि सरकार ये नया प्रोग्राम लेकर आएगी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi