S M L

पत्रकारों के लिए पांचवां सबसे खतरनाक देश भारत, अफगानिस्तान टॉप पर

रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स की नई रिपोर्ट से ये आंकड़े सामने आए हैं. इस रिपोर्ट से साफ हुआ है कि इस साल पूरी दुनिया में पत्रकारों की हत्या बढ़ी है

Updated On: Dec 19, 2018 05:44 PM IST

FP Staff

0
पत्रकारों के लिए पांचवां सबसे खतरनाक देश भारत, अफगानिस्तान टॉप पर

इस साल पूरे दुनिया भर में 80 पत्रकारों की हत्या या उनके पेशे की वजह से मौत हुई है. पूरी दुनिया में भारत पत्रकारों के लिए पांचवां सबसे बुरा देश साबित हुआ है. वहीं, अफगानिस्तान पत्रकारों के लिए सबसे ज्यादा खतरनाक देश है.

रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स की नई रिपोर्ट से ये आंकड़े सामने आए हैं. इस रिपोर्ट से साफ हुआ है कि इस साल पूरी दुनिया में पत्रकारों की हत्या बढ़ी है.

रिपोर्ट में बताया गया है कि इन 80 पत्रकारों में से 63 पेशेवर पत्रकार थे. इसके अलावा इस साल 348 पत्रकारों के हिरासत में लिया गया था और 60 पत्रकारों का अपहरण हुआ, वहीं तीन लापता हैं.

मारे गए 80 पत्रकारों में से 49 की हत्या इसलिए हुई क्योंकि उनकी रिपोर्टिंग की वजह से ऊंची आर्थिक, राजनीतिक, धार्मिक ताकत रखने वाले या अपराधी संगठन को नुकसान पहुंच रहा था.

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, मारे गए पत्रकारों की संख्या सबसे ज्यादा अफगानिस्तान में रही है. 2018 में अफगानिस्तान में इस साल 15 पत्रकार मारे गए हैं. सीरिया में 11, मैक्सिको में नौ, यमन में आठ और भारत और अमेरिका में छह-छह पत्रकार मारे गए हैं.

हालांकि, इराक इस लिस्ट से बाहर रहा है. इराक में इस साल एक भी पत्रकार नहीं मारा गया है. ऐसा 2003 के युद्ध के बाद से पहली बार हुआ है.

इस रिपोर्ट में ये भी साफ किया गया है, इनमें से कई देश हैं, जिनमें युद्ध नहीं हो रहा और पत्रकारों को युद्ध से खतरा नहीं है. ये उस देश के खराब हालातों के वजह से हो रहा है.

भारत में ही खुद बिहार में 25 मार्च को दो पत्रकारों की एसयूवी से कुचलकर हत्या कर दी गई. इसमें गांव के मुखिया पर हत्या का आरोप लगा था, उसी दिन मध्य प्रदेश रेत माफिया पर स्टोरी कर रहे एक पत्रकार की ट्रक से कुचलकर मौत हो गई. इसमें भी शक की सूई रेत माफिया पर गई.

इस साल 348 पत्रकारों को हिरासत में लिया गया. इनमें से 60 चीन में, 38 मिश्र में, 33 तुर्की में और 28-28 सऊदी अरब और ईरान में हिरासत में लिए गए.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi