S M L

भारत फिलिस्तीनी जनता के हितों के प्रति वचनबद्ध है: पीएम मोदी

फिलिस्तीन के राष्ट्रपति महमूद अब्बास ने भी इस बात को स्वीकार किया कि भारतीय नेतृत्व हमेशा फिलिस्तीन में शांति के पक्ष में खड़ा रहा है

Bhasha Updated On: Feb 10, 2018 09:34 PM IST

0
भारत फिलिस्तीनी जनता के हितों के प्रति वचनबद्ध है: पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फिलिस्तीन की अपनी ऐतिहासिक यात्रा के दौरान राष्ट्रपति महमूद अब्बास से शनिवार को मुलाकात की. इस दौरान दोनों पक्षों ने तीन करोड़ डॉलर की लागत से एक सुपर स्पेशिएल्टी अस्पताल की स्थापना समेत तकरीबन पांच करोड़ डॉलर मूल्य के समझौतों पर हस्ताक्षर किए.

राष्ट्रपति अब्बास ने रामल्ला स्थित राष्ट्रपति परिसर मुकाता में एक आधिकारिक समारोह में प्रधानमंत्री मोदी की अगवानी की. रामल्ला से ही फिलिस्तीनी सरकार संचालित होती है.

भारत में फिलिस्तीन में शांति के पक्ष में खड़ा रहा है

मोदी फिलिस्तीन की आधिकारिक यात्रा करने वाले पहले भारतीय प्रधानमंत्री हैं. बातचीत के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि उन्होंने राष्ट्रपति अब्बास को आश्वासन दिया है कि भारत फिलिस्तीनी जनता के हितों के प्रति वचनबद्ध है. उन्होंने कहा कि भारत को क्षेत्र में शांति लौटने की उम्मीद है.

राष्ट्रपति अब्बास के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने कहा, 'हम जानते हैं कि यह उतना आसान नहीं है, लेकिन हमें प्रयास करते रहना चाहिए क्योंकि काफी कुछ दांव पर है.' उधर, राष्ट्रपति अब्बास ने इस बात को स्वीकार किया कि भारतीय नेतृत्व हमेशा फिलिस्तीन में शांति के पक्ष में खड़ा रहा है.

अब्बास ने कहा कि फिलिस्तीन स्वतंत्र देश का दर्जा पाने के अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए बातचीत करने को हमेशा तैयार है. उन्होंने भारत से इस्राइल के साथ शांति प्रक्रिया को आगे बढ़ाने की अपील की.

राष्ट्रपति अब्बास ने कहा, 'हम अंतरराष्ट्रीय आवाज के रूप में भारत की बड़ी प्रतिष्ठा और गुटनिरपेक्ष आंदोलन और सभी अंतरराष्ट्रीय मंचों पर उसकी ऐतिहासिक भूमिका और रणनीतिक, आर्थिक स्तर पर उसकी बढ़ती शक्ति को देखते हुए भारत की भूमिका पर इस तरीके से भरोसा करते हैं जो हमारे क्षेत्र में उचित और जरूरी शांति के लिए उपयुक्त हो.'

दोनों पक्षों ने पांच करोड़ डॉलर के समझौते पर हस्ताक्षर किए. इस समझौते में बीट साहूर में तीन करोड़ डॉलर की लागत से एक सुपर स्पेशिएल्टी अस्पताल की स्थापना और 50 लाख डॉलर की लागत से महिलाओं के सशक्तीकरण के लिए एक केंद्र का निर्माण करना शामिल है.

Ramallah: Prime Minister Narendra Modi receives the Grand Collar-(the highest order given to foreign dignitaries) by Palestinian President Mahmoud Abbas after the conclusion of their bilateral meeting in Ramallah on Saturday. PM Modi received the Grand Collar for his contribution to relations between India and Palestine. PTI photo /PIB  (PTI2_10_2018_000113B)

मोदी को ग्रैंड कॉलर ऑफ द स्टेट ऑफ फिलिस्तीन सम्मानित किया

शिक्षा क्षेत्र में 50 लाख डॉलर के तीन समझौते और रामल्ला में नेशनल प्रिंटिंग प्रेस के लिए उपकरण और मशीन की खरीद के लिए भी समझौते पर हस्ताक्षर किए गए.

भारत और फिलिस्तीन के बीच संबंधों को प्रोत्साहन देने में महत्वपूर्ण योगदान को मान्यता देते हुए राष्ट्रपति अब्बास ने प्रधानमंत्री मोदी को ग्रैंड कॉलर ऑफ द स्टेट ऑफ फिलिस्तीन से सम्मानित किया.

ग्रैंड कॉलर विदेशी गणमान्य लोगों को दिया जाने वाला फिलिस्तीन का सर्वोच्च सम्मान है. यह सम्मान राजाओं, राज्य/सरकार प्रमुखों और उनके समान रैंक के अन्य लोगों को दिया जाता है.

इससे पहले द्विपक्षीय वार्ता से पूर्व दोनों नेता गले मिले और दोनों देशों के राष्ट्रगान के सम्मान में खड़े रहे. उन्हें सलामी गारद पेश किया गया.

कैथोलिक चर्च के आर्चबिशप पॉलोस मारकुज्जो और अल अक्सा मस्जिद के धार्मिक नेता मोदी का अभिभादन करने के लिए मुकाता पहुंचे.

मोदी जॉर्डन सेना के हेलीकॉप्टर पर सवार होकर अम्मान से सीधे रामल्ला पहुंचे जहां फिलिस्तीन के प्रधानमंत्री रामी हमदल्ला ने उनका स्वागत किया. प्रधानमंत्री मोदी के हेलिकॉप्टर की सुरक्षा में इस्राइली वायु सेना के हेलिकॉप्टर तैनात थे.

फिलिस्तीन की धरती पर कदम रखने के बाद मोदी ने कहा, 'यह ऐतिहासिक यात्रा है जो मजबूत द्विपक्षीय सहयोग की ओर ले जाएगी.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi