S M L

भारत-फ्रांस में हुए 14 समझौते, पीएम मोदी बोले- सदियों पुरानी है हमारी दोस्ती

पीएम मोदी ने कहा, हमारी (भारत-फ्रांस) रणनीतिक साझेदारी भले ही 20 साल पुरानी हो, हमारे देशों और हमारी सभ्यताओं की आध्यात्मिक साझेदारी सदियों लंबी है

FP Staff Updated On: Mar 10, 2018 02:28 PM IST

0
भारत-फ्रांस में हुए 14 समझौते, पीएम मोदी बोले- सदियों पुरानी है हमारी दोस्ती

फ्रांस के राष्ट्रपति इम्मानुएल मैक्रोन 4 दिन के भारत दौरे पर दिल्ली पहुंचे हैं. शनिवार को प्रधानमंत्री मोदी ने हैदराबाद हाउस में राष्ट्रपति मैक्रोन के साथ मुलाकात की. बैठक के बाद दोनों नेताओं ने संयुक्त बयान दिया जिसमें अलग-अलग मुद्दों पर बात हुई.

इस अवसर पर दोनों राष्ट्राध्यक्षों की मौजूदगी में 14 समझौतों पर भी हस्ताक्षर हुए.

संयुक्त बयान में पीएम मोदी ने कहा, हमारी (भारत-फ्रांस) रणनीतिक साझेदारी भले ही 20 साल पुरानी हो, हमारे देशों और हमारी सभ्यताओं की आध्यात्मिक साझेदारी सदियों लंबी है. पीएम ने कहा, आजादी, समानता और भाईचारा न सिर्फ फ्रांस के रग-रग में है, बल्कि भारतीय संविधान में भी यह रचा-बसा है.

प्रधानमंत्री ने आगे कहा, हम चाहते हैं हमारे युवा (भारत-फ्रांस) एक-दूसरे के देशों को जानें, इसके मद्देनजर हमने दो समझौतों पर हस्ताक्षर किए हैं. हम मानते हैं कि हमारे दोपक्षीय संबंधों के उज्ज्वल भविष्य के लिए सबसे महत्वपूर्ण आयाम है हमारे एक-दूसरे से संबंध. प्रधानमंत्री ने कहा, रक्षा क्षेत्र में मेक इन इंडिया के तहत हम फ्रांस के निवेश का स्वागत करत हैं.

इससे पहले संयुक्त सचिव (यूरोप पश्चिम) के नागराज नायडू ने पत्रकारों से कहा, ‘फ्रांस विशेष रूप से दक्षिण एशिया में आतंकवाद को लेकर भारत के नजरिये का समर्थन करता है. हम नए क्षेत्रों खासकर समुद्री सुरक्षा, आतंकवाद रोकने के उपाय व अक्षय ऊर्जा जैसे क्षेत्रों में दोनों की बढ़ती सहमति देख रहे हैं.’

इसके अलावा भारत और फ्रांस के बीच रणनीतिक भागीदारी में रक्षा, एटमी ऊर्जा व अंतरिक्ष के क्षेत्र में सहयोग का मामला शामिल है. नायडू ने कहा, ‘अंतरिक्ष के क्षेत्र में भारत और फ्रांस के बीच एक गठजोड़ है और हम इसे नए स्तर ले जाना पसंद करेंगे.’ भारत और फ्रांस के बीच अंतरिक्ष के क्षेत्र में सहयोग पांच दशक से भी पुराना है.

ताजमहल देखेंगे, बनारस-मिर्जापुर का दौरा करेंगे

अक्षय ऊर्जा, हाई स्पीड ट्रेन और व्यापार में सहयोग बढ़ाने पर भी जोर होगा. पीएम मोदी के साथ शनिवार को वार्ता के बाद मैक्रोन छात्रों के साथ एक खुली चर्चा में शामिल होंगे. इसमें करीब 300 छात्रों के भाग लेने की उम्मीद है. इसी दिन वह ‘ज्ञान सम्मेलन ’ में भी भाग लेंगे. इसमें दोनों पक्षों के 200 से अधिक शिक्षाविद शामिल होंगे.

इस यात्रा के दौरान राष्ट्रपति मैक्रोन अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन (आईएसए) के शिखर सम्मेलन में भाग लेंगे. आईएसए भारत और फ्रांस की संयुक्त पहल का नतीजा है. आईएसए शिखर सम्मेलन में कई देशों और सरकार के प्रमुखों के शामिल होने की संभावना है इसमें ठोस परियोजनाओं पर जोर दिए जाने की संभावना है. उसी दिन वह ताज महल देखने जाएंगे. राष्ट्रपति मैक्रोन 12 मार्च को वाराणसी भी जाएंगे. वाराणसी प्रधानमंत्री मोदी का लोकसभा क्षेत्र है. प्रधानमंत्री के साथ वह उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर में सौर प्लांट का उद्घाटन करेंगे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi