S M L

पानी की कमी से हर साल मर रहे हैं 2 लाख लोग और बदतर होंगे हालत: नीति आयोग

रिपोर्ट के मुताबिक फिलहाल 60 करोड़ लोग पानी की समस्या से जूझ रहे हैं. वहीं करीब दो लाख लोगों की हर साल साफ पानी की कमी से मौत हो जाती है

Updated On: Jun 15, 2018 04:57 PM IST

FP Staff

0
पानी की कमी से हर साल मर रहे हैं 2 लाख लोग और बदतर होंगे हालत: नीति आयोग
Loading...

नीति आयोग ने शुक्रवार को जल प्रबंधन इंडेक्स जारी कर दिया. इंडेक्स से जुड़ी रिपोर्ट में बताया गया है कि भारत पानी को लेकर इतिहास के सबसे बुरे दौर से गुजर रहा है जिसमें 60 करोड़ लोगों को पीने का पानी मयस्सर नहीं है. रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि भारत में हर साल तकरीबन 2 लाख लोग पेयजल की कमी से मर रहे हैं.

इंडेक्स में यह भी बताया गया है कि देश के किस राज्य में पेयजल की क्या हालत है. इसमें गुजरात सबसे ऊपर है. वहीं झारखंड लिस्ट में सबसे निचले पायदान पर है. लिस्ट में गुजरात के बाद मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक और महाराष्ट्र का नाम है.

केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने यह रिपोर्ट जारी की. नीति आयोग ने जल प्रबंधन इंडेक्स के आधार पर पहली बार राज्यों की लिस्ट तैयार की है. यह इंडेक्स अंडरग्राउंड पानी, पोखर झील के स्तर में सुधार, सिंचाई, खेती, पेयजल, नीति और संचालन व्यवस्था समेत कुल 28 फैक्टर के आधार पर तैयार किया गया है. रिपोर्ट के मुताबिक जल प्रबंधन के मामले में झारखंड, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और बिहार की हालत सबसे खराब है.

इस मौके पर गडकरी ने कहा कि जल प्रबंधन बड़ी समस्या है और जिन राज्यों ने अच्छा किया है, उन्होंने खेती में भी बेहतर किया है. उन्होंने कहा, ‘दिल्ली में वायु प्रदूषण और जल प्रबंधन की समस्या से निपटने के लिए मैं दिल्ली के मुख्यमंत्री के साथ बैठक करने जा रहा हूं.’

Residents of Sanjay Colony, a residential neighbourhood, crowd around a water tanker provided by the state-run Delhi Jal (water) Board to fill their containers in New Delhi June 30, 2009. Delhi Chief Minister Sheila Dikshit has given directives to tackle the burgeoning water crisis caused by uneven distribution of water in the city according to local media. The board is responsible for supplying water in the capital. REUTERS/Adnan Abidi (INDIA SOCIETY) - RTR256UB

रिपोर्ट में यह भी कहा कि देश में गंभीर जल संकट है और लाखों लोगों की जिंदगी को खतरा है. रिपोर्ट के मुताबिक फिलहाल 60 करोड़ लोग पानी की समस्या से जूझ रहे हैं. वहीं करीब दो लाख लोगों की हर साल साफ पानी की कमी से मौत हो जाती है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि 2030 तक देश में पानी की मांग आपूर्ति के मुकाबले दोगुनी हो जाने का अनुमान है. इससे करोड़ों लोगों के सामने जल संकट की हालत पैदा होगी. नीति आयोग ने भविष्य में सालाना आधार पर रैंकिंग जारी करने का मन बनाया है.

(इनपुट भाषा से)

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi