S M L

दिल्ली: स्कूल में धर्म के नाम पर बंटवारा, अलग-अलग सेक्शन में बैठते हैं हिंदू-मुस्लिम छात्र

स्कूल इंचार्ज ने इस बात से इनकार कर दिया है कि छात्रों को धर्म के आधार पर अलग-अलग सेक्शन आवंटित किया गया है. उन्होंने कहा कि सेक्शन में बदलाव एक प्रक्रिया है जो सभी स्कूलों में होती है

Updated On: Oct 10, 2018 11:00 AM IST

FP Staff

0
दिल्ली: स्कूल में धर्म के नाम पर बंटवारा, अलग-अलग सेक्शन में बैठते हैं हिंदू-मुस्लिम छात्र

उत्तरी दिल्ली नगर निगम द्वारा नियुक्त शिक्षकों के एक वर्ग ने आरोप लगाया है कि वजीराबाद के एक प्राइमरी स्कूल में हिंदू और मुस्लिम छात्रों को अलग सेक्शन में पढ़ाया जाता है.

वजीराबाद गांव के गली नंबर 9 में स्थित इस एमसीडी बॉयज स्कूल की 9 अक्टूबर की अटेंडेंस एक हद तक शिक्षकों के उन आरोप को सही बता रही है, जिसमें कहा गया है कि हिंदू-मुस्लिम छात्रों को अलग-अलग सेक्शन में पढ़ाया जाता है. हालांकि सारे सेक्शन ऐसे नहीं हैं जिसमें सिर्फ हिंदू या मुस्लिम छात्र हैं. कुछ सेक्शन ऐसे हैं जिसमें दोनों धर्मों के छात्र एक साथ पढ़ते हैं.

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, स्कूल इंचार्ज सीबी सिंह सेहरावत ने इस बात से इनकार कर दिया है कि छात्रों को धर्म के आधार पर अलग-अलग सेक्शन आवंटित किया गया है. उन्होंने कहा कि सेक्शन में बदलाव एक प्रक्रिया है जो सभी स्कूलों में होती है.

सेहरावत ने कहा कि यह प्रबंधन का निर्णय था कि हम स्कूल में शांति, अनुशासन और अच्छा सीखने के माहौल को बनाए रखने के लिए सबसे अच्छा प्रयास क्या कर सकते हैं. उन्होंने यह भी कहा कि छात्र कभी-कभी लड़ते भी हैं.

जब उनसे यह पूछा गया कि क्या छात्र धर्म के आधार पर झगड़ा करते हैं? इस पर उन्होंने कहा कि बेशक बच्चों की उम्र काफी कम हैं और वो धर्म के बारे में नहीं जानते हैं, लेकिन उनका कई चीजों के प्रति झुकाव है. कुछ बच्चे शाकाहारी हैं, इसलिए मतभेद हो सकते हैं. उन्होंने कहा कि हमें सभी शिक्षकों और छात्रों के हितों की देखभाल करने की आवश्यकता है.

स्कूल के एक सूत्र ने बताया कि धर्म के आधार पर सेक्शन में बदलाव सेहरावत के आने के बाद ही शुरू हुआ. उन्होंने यह निर्णय लिया और इसमें बाकी शिक्षकों की राय नहीं ली गई. सूत्र ने बताया कि जब कुछ शिक्षकों ने इस मुद्दे को उनके सामने उठाया तो उन्होंने गुस्से में कहा कि यह आपका मामला नहीं है. जो काम आपको दिया गया है, बस वह करते रहिए.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi