S M L

छोटे निवेशकों के हित में बिटकॉइन करेंसी पर रोक लगे

हवाला और कालेधन के लेनदेन में बिटकॉइन का काफी इस्तेमाल होता है

Updated On: Apr 05, 2017 06:52 PM IST

Bhasha

0
छोटे निवेशकों के हित में बिटकॉइन करेंसी पर रोक लगे

लोकसभा में आज विभिन्न दलों के सदस्यों ने बिटकॉइन करेंसी पर रोक लगाने, डाकघर बचत पर ब्याज दर में वृद्धि करने और खाड़ी देशों के लिए विमान किराए को सस्ता करने की मांग की गई.

शून्यकाल में बीजेपी के किरीट सोमैया ने बिटकॉइन करेंसी का मामला उठाते हुए कहा कि रोजाना दो हजार करोड़ रुपए की ट्रेडिंग हो रही है और इसमें छोटे निवेशक फंस सकते हैं.

उन्होंने मांग की कि सरकार बिटकॉइन और क्रिप्टोकरेंसी को गैर कानूनी घोषित करे.

क्या है बिटकॉइन?

बिटकॉइन एक नई इनोवेटिव डिजीटल टेक्नोलॉजी या वर्चुअल करेंसी है. इसको 2008-2009 में सातोशी नाकामोतो नामक एक सॉफ्टवेयर डेवलपर ने प्रचलन में लाया था.

कंप्यूटर नेटवर्कों के जरिए इस मुद्रा से बिना किसी मध्‍यस्‍थ के ट्रांजेक्‍शन किया जा सकता है. वहीं, इस डिजिटल कैरेंसी को डिजिटल वॉलेट में रखा जाता है. बिटकॉइन को क्रिप्टोकरेंसी भी कहा जाता है. जबकि जटिल कम्‍प्‍यूटर एल्गोरिथम्स और कम्‍प्‍यूटर पावर से इस मुद्रा का निर्माण किया जाता है जिसे माइनिंग कहते हैं.

जिस तरह रुपए, डॉलर और यूरो खरीदे जाते हैं, उसी तरह बिटकॉइन की भी खरीद होती है. ऑनलाइन भुगतान के अलावा इसको पारम्परिक मुद्राओं में भी बदला जाता है.

बिटकॉइन को अभी तक किसी भी जगह आधिकारिक स्वीकृति नहीं मिली है. इस वजह से बिटकॉइन में लेन-देन करने पर कोई चार्ज नहीं लगता है और इसका नियंत्रण सिर्फ खरीदने और बेचने वाले के पास होता है. इस कारण हवाला और कालेधन के लेनदेन में भी बिटकॉइन का काफी इस्तेमाल होता है.

नियंत्रणविहीन होने की वजह से बिटकॉइन के दामों में काफी उतार-चढ़ाव होता है. इस वजह से इसका इस्तेमाल करने वाले छोटे निवेशकों को नुकसान खतरा अधिक होता है.

गर्मी छुट्टी के दौरान बढ़े विमान किरायों का मुद्दा भी उठा

तृणमूल कांग्रेस के सौगत राय ने डाकघर बचत पर ब्याज दर में कमी का मुद्दा उठाया और सरकार से कहा कि इसकी ब्याज दरों में वृद्धि की जानी चाहिए ताकि आम आदमी को बचत पर फायदा मिल सके.

कांग्रेस के के वी थामस ने एयर इंडिया और अन्य विमानन कंपनियों द्वारा गर्मी की छुट्टियों के चलते खाड़ी देशों के लिए विमान किराए में वृद्धि किए जाने का मुद्दा उठाया और सरकार से इस मामले में हस्तक्षेप करने के साथ ही विमान किराए को सस्ता किए जाने की मांग की.

यूडीएफ के सिराजुद्दीन अजमल ने असम में मानव तस्करी का मुद्दा उठाते हुए हजारों बच्चों और महिलाओं के लापता होने का जिक्र किया. उन्होंने साथ ही केंद्र सरकार से इस मामले की उच्च स्तरीय जांच कराने और राज्य सरकारों को सचेत किए जाने की मांग की.

शिवसेना के चंद्रकांत खरे ने उत्तरप्रदेश में किसानों का कर्ज माफ करने के कदम के लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की प्रशंसा की, साथ ही महाराष्ट्र के किसानों का कर्ज माफ करने के लिए केंद्र से सहायता देने की मांग की.

उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने भी कहा है कि इस विषय पर ध्यान देना होगा. तब केंद्र सरकार को भी इसमें मदद करनी चाहिए.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi