S M L

2022 तक देहरादून बन जाएगा स्मार्ट सिटी

राज्य के शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने कहा कि देहरादून के स्मार्ट सिटी का प्रोजेक्ट 2022 तक पूरा कर लिया जाएगा

FP Staff Updated On: Jun 23, 2017 05:55 PM IST

0
2022 तक देहरादून बन जाएगा स्मार्ट सिटी

केंद्र सरकार के स्मार्ट सिटी मिशन के तहत विकास के लिए जिन 30 शहरों की नई सूची जारी की गई है, उनमें केरल का तिरुवनंतपुरम, छत्तीसगढ़ का नया रायपुर और गुजरात का राजकोट शहर शामिल हैं.

इस नई घोषणा के साथ केंद्र की स्मार्ट सिटी योजना के तहत चयनित शहरों की संख्या 90 हो गई है

नई सूची के ऐलान से जुड़े एक कार्यक्रम में शहरी विकास मंत्री एम वेंकैया नायडू ने कहा कि स्मार्ट सिटी के लिए सूची में 40 शहरों के लिए स्थान खाली थे, लेकिन व्यवहारिकता और कार्य करने योग्य योजना सुनिश्चित करने के लिए 30 शहरों का चयन किया गया. स्मार्ट सिटी योजनाओं के तहत 57,393 करोड़ रुपए के निवेश का प्रस्ताव है.

स्मार्ट सिटी योजना के तहत जारी तीसरे चरण की सूची में आंध्र प्रदेश का अमरावती, बिहार का पटना, तेलंगाना का करीमनगर और बिहार का मुजफ्फरपुर भी शामिल है.

स्मार्ट सिटी मिशन के तहत केंद्र हर शहर को पांच साल की अवधि में 500 करोड़ रुपए प्रदान करता है, ताकि विभिन्न विकास परियोजनाओं को कार्यान्वित किया जा सके.

परियोजना का कुल क्षेत्रफल 354 हेक्टेयर (875 एकड़) है जिसमें नगर निगम के दस वार्ड शामिल होंगे जो हैं- 11, 12, 15, 17, 18, 19, 20, 21, 23 और 24.

परियोजना में शहर के आराघर चौक से ईसी रोड होते हुए करनपुर बाजार का क्षेत्र आएगा. इसमें डीबीएस चौक से राजपुर रोड, घण्टाघर, चकराता रोड स्थित बिन्दाल पुल, बिन्दाल नदी, कांवली रोड स्थित बिन्दाल पुल से कांवली रोड होते हुए सहारनपुर चौक और प्रिन्स चौक से हरिद्वार रोड से आराघर चौक तक का क्षेत्र शामिल होगा.

स्मार्ट सिटी बनाने के लिए ये होंगे काम

पल्टन बाजार में आने वाले लोगों के लिए खुली सड़कें और पैदल चलने की सुविधा.

शहर के मुख्य पांच चौराहों का सौन्दर्यीकरण और चौड़ीकरण.

गांधी पार्क को पुनर्विकसित करते हुए सौन्दर्यीकरण.

वर्तमान नगर निगम कार्यालय को ग्रीन बिल्डिंग के रूप में परिवर्तित किए जाने का काम.

बायो टॉयलेट्स और वाटर एटीएम स्थापित किया जाना.

एस्लेहॉल क्षेत्र में को सरंक्षित विरासत के रूप में विकसित किया जाना.

डीएवी व डीबीएस कॉलेज क्षेत्र को पुनर्विकसित करते हुए सड़क चौड़ीकरण.

घंटाघर स्थित कॉम्प्लेक्स में बच्चों व आम नागरिकों के लिए ‘मॉडल थीम पार्क‘ विकसित किया जाना.

पूर्व तहसील परिसर में मल्टी लेवल कार पार्किंग विकसित करना.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
'हमारे देश की सबसे खूबसूरत चीज 'सेक्युलरिज़म' है लेकिन कुछ तो अजीब हो रहा है'- Taapsee Pannu

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi