S M L

CBI ने अपने ही स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना पर किया केस, 3 करोड़ रुपए रिश्वत लेने का आरोप

सीबीआई ने अपने ही स्पेशल डायरेक्टर और जांच एजेंसी में नंबर 2 की हैसियत रखने वाले राकेश अस्थाना पर 3 करोड़ की रिश्वत लेने का केस किया है, हालांकि यह सीबीआई के टॉप बॉस आलोक वर्मा और अस्थाना के बीच लड़ाई का मामला भी है

Updated On: Oct 22, 2018 11:42 AM IST

FP Staff

0
CBI ने अपने ही स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना पर किया केस, 3 करोड़ रुपए रिश्वत लेने का आरोप
Loading...

देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी सीबीआई इस समय एक अजीब संकट से गुजर रही है. सीबीआई ने अपने ही स्पेशल डायरेक्टर और जांच एजेंसी में नंबर टू की हैसियत रखने वाले राकेश अस्थाना पर 3 करोड़ की रिश्वत लेने का केस किया है. हालांकि मामला सिर्फ इतना नहीं है. यह केस सीबीआई के टॉप बॉस आलोक वर्मा और अस्थाना के बीच लड़ाई का मामला भी है. CBI ने अस्थाना पर दर्ज एफआईआर में मांस कारोबारी मोइन कुरैशी से 3 करोड़ रुपए रिश्वत लेने का आरोप लगाया है. बता दें कि राकेश अस्थाना ही कुरैशी के खिलाफ जांच की कमान संभाल रहे थे. वहीं, अस्थाना ने उन पर लगे आरोपों को खारिज करते हुए सीधे सीबीआई चीफ पर उन्हें फंसाने का आरोप मढ़ दिया है. वहीं सीबीआई के इस अंदरूनी विवाद पर केंद्र सरकार भी पैनी नजर रखे हुए है.

बिजनेसमैन सतीश बाबू ने अस्थाना को दिए थे 3 करोड़ रुपए

हैदराबाद के एक बिजनेसमैन सतीश बाबू सना की शिकायत के आधार पर सीबीआई के दूसरे नंबर के शीर्ष अधिकारी राकेश अस्थाना पर दर्ज एफआईआर में इस बात का दावा किया गया है कि उन्होंने सीबीआई स्पेशल डायरेक्टर को पिछले वर्ष लगभग 3 करोड़ रुपये दिए थे. सना का यह बयान सीआरपीसी की धारा 164 के अंतर्गत मैजिस्ट्रेट के सामने दर्ज कराया गया है जो कि कोर्ट में भी मान्य होगा. मोइन कुरैशी से 50 लाख रुपए लेने के मामले में सना भी जांच के घेरे में था. इस मामले की जांच के लिए गठित एसआईटी का नेतृत्व राकेश अस्थाना कर रहे थे. दावा किया गया है कि पिछले वर्ष डीएसपी देवेंद्र कुमार द्वारा की गई पूछताछ में दुबई के एक इन्वेस्टमेंट बैंकर मनोज प्रसाद ने उन्हें सीबीआई से उनके अच्छे संबंधों के बारे में बताया था.

इस मामले में 16 अक्टूबर 2018 को प्राथमिकी दर्ज की गई

सिर्फ इतना ही नहीं, इस मामले में यह भी बताया गया कि उनका भाई सोमेश उसकी इस केस से बाहर निकलने में मदद करेगा. सना ने कहा कि वह मनोज को लगभग 10 वर्षों से ज्यादा समय से जानता है. सूत्रों के अनुसार, इस मामले में 16 अक्टूबर 2018 को प्राथमिकी दर्ज की गई है. मामले की गंभीरता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इसमें सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के अलावा खुफिया एजेंसी रॉ के भी एक बहुत सीनियर अधिकारी का नाम शामिल है. सूत्रों के अनुसार मामला सामने आने के बाद इस घोटाले से जुड़े जांच टीम से राकेश अस्थाना को हटाने की भी पहल हुई है और इस केस से जुड़े कुछ अधिकारियों से पूछताछ भी की गई है.

मोइन कुरैशी पर मनी लॉन्ड्रिंग और भ्रष्टाचार का आरोप

सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर और 1984 बैच के गुजरात कैडर के आईपीएस अधिकारी राकेश अस्थाना मांस कारोबारी कुरैशी की मामले की जांच कर रहे हैं. कुरैशी पर मनी लॉन्ड्रिंग, भ्रष्टाचार समेत कई तरह के आरोप हैं. दूसरी तरफ अस्थाना ने सीबीआई चीफ आलोक वर्मा पर उन्हें फंसाने का आरोप लगाया है. अस्थाना ने सीवीसी के भेजे एक पत्र में कहा है कि सीबीआई चीफ ने अजय बस्सी नामक एक ऐसे अधिकारी की ऐंटी करप्शन ब्रांच में नियुक्ति की है, जिसे नियमों को तोड़ने के लिए जाना जाता है और जिसकी छवि बेदाग नहीं है. अस्थाना ने पत्र में आरोप लगाया कि ऐसा उन्हें फंसाने के लिए किया गया है. 15 अक्टूबर को अस्थाना ने सीवीसी को पत्र लिखकर अपनी सुरक्षा के लिए गुहार लगाई थी. उन्होंने आरोप लगाया कि उनकी और उनके परिवार के लोगों की कॉल डिटेल्स खंगाली जा रही है. बस्सी, अश्विनी गुप्ता और स्टाफ ऑफिसर और एडिशनल डायरेक्टर ए के शर्मा दबाव में उन्हें फंसाने के लिए काम कर रहे हैं.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi