S M L

दिल्ली के स्कूल वायु प्रदूषण के मद्देनजर उठा रहे हैं जरूरी कदम

दिवाली के बाद दिल्ली की वायु गुणवत्ता और भी खराब की आशंका है. ऐसे में कई स्कूलों ने एहतियाती कदम उठाने शुरू कर दिए हैं

Updated On: Nov 04, 2018 06:13 PM IST

PTI

0
दिल्ली के स्कूल वायु प्रदूषण के मद्देनजर उठा रहे हैं जरूरी कदम
Loading...

दिल्ली और आसपास के इलाकों के स्कूलों ने वायु प्रदूषण की गंभीर होती स्थिति के मद्देनजर स्टूडेंट्स की सुबह की प्रार्थना इमारत के अंदर करने, बाहर की गतिविधियों में उनके लिए 'मास्क' पहनना अनिवार्य करने और उन्हें करौदें बांटने जैसे कदम उठाए हैं.

दिवाली के बाद दिल्ली की वायु गुणवत्ता और भी खराब की आशंका है. ऐसे में कई स्कूलों ने एहतियाती कदम उठाने शुरू कर दिए हैं.

गुड़गांव के हेरीटेज एक्सपेरीमेंटल लर्निंग स्कूल की प्रिंसिपल दीपा कुमार ने कहा, 'हमारे यहां क्वालिटी फिल्टर्स की व्यवस्था है, जिससे सभी कक्षाओं में स्वच्छ और ताजा हवा आती है. एक पेशेवर टीम भी इसकी निगरानी कर रही है.'

उन्होंने कहा, 'हम पीएम 2.5 (हवा में मौजूद 2.5 माइक्रोमीटर से कम व्यास के धूल कण) स्तर की निगरानी कर रहे हैं और उन्हें रिकॉर्ड कर रहे हैं. हर कुछ घंटे पर जरुरी कार्रवाई की जा रही है. यह सूचना हमारी बाहरी गतिविधियों को निर्देशित करने में मदद करती है.'

दिल्ली में पिछले करीब तीन हफ्ते से वायु की गुणवत्ता बहुत खराब से गंभीर स्तर के बीच है. रविवार को स्थिति में कुछ सुधार नजर आया, लेकिन विशेषज्ञों का मानना है कि दिवाली के बाद स्थिति बिगड़ सकती है. कुमार ने कहा कि स्कूल प्रशासन को कई बार बाहरी गतिविधियां रद्द करनी पड़ी हैं.

मयूर विहार के एहल्कोन इंटरनेशनल स्कूल के प्राचार्य अशोक पांडे ने कहा, 'हम बच्चों की सुबह की प्रार्थना भवन के अंदर करा रहे हैं और अभिभावकों को अपने ब्च्चों को मास्क पहनाकर स्कूल भेजने की सलाह दी है.'

दिल्ली के पूसा रोड के स्प्रिंगडेल्स की प्राचार्य अमिता वट्टल ने कहा, 'हम स्टूडेंट्स को ‘ग्रीन’ दिवाली मनाने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं और उनसे पटाखे नहीं छोड़ने को कह रहे हैं क्योंकि उससे प्रदूषण बढ़ता है.'

गुड़गांव के सूरज स्कूल ने स्टूडेंट्स को करौंदा बांटना शुरू किया है. स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक यह फेफड़ों पर वायु प्रदूषण के प्रभाव को घटाता है. स्कूल की उप-प्राचार्य कनिका घई ने बताया, 'हम स्टूडेंट्स को नियमित रूप से यह फल खाने को कह रहे हैं और स्कूल में इसे बांट भी रहे हैं.'

बहरहाल, दिल्ली के शिक्षा निदेशालय ने अभी तक कोई परामर्श नहीं जारी किया है. निदेशालय के निदेशक संजय गोयल ने बताया, 'हम ग्रेडेड रिस्पॉन्स एक्शन प्लान से निर्देश मिलने का इंतजार कर रहे हैं.'

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi