विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

बीएस-3 वाहनों पर बैन: टू-व्हीलर इंडस्ट्री को 600 करोड़ की चपत

रेटिंग एजेंसी इ्रका ने अपनी जारी रिपोर्ट में यह अनुमान लगाया है

Bhasha Updated On: May 01, 2017 11:49 PM IST

0
बीएस-3 वाहनों पर बैन: टू-व्हीलर इंडस्ट्री को 600 करोड़ की चपत

बीएस-3 स्टैंडर्ड वाहनों पर प्रतिबंध के बाद तीन दिन तक ग्राहकों को दी गई छूट से दोपहिया वाहन उद्योग को 600 करोड़ रुपए की चपत लगी है. रेटिंग एजेंसी इ्रका ने अपनी जारी रिपोर्ट में यह अनुमान लगाया है.

रिपोर्ट के अनुसार नुकसान का बड़ा हिस्सा मूल उपकरण निर्माताओं (ओईएमएस) पर पड़ा है. हालांकि नहीं बिके वाहनों को बीएस-4 मानकों के अनुपालन वाले वाहनों में बदलने का ऑप्शन है.

रिपोर्ट में कहा गया है, ‘30-31 मार्च 2017 के दौरान दी गई छूट से दोपहिया वाहन उद्योग को कुल नुकसान अनुमानित 600 करोड़ रुपए है. इसमें से बड़ा नुकसार ओईएमएस को होगा.’

Vehicle Sales

सुप्रीम कोर्ट के बीएस 3 गाड़ियों पर बैन लगाने के बाद देश भर में इन गाड़ियों की जमकर खरीदारी हुई (फोटो: पीटीआई)

सुप्रीम कोर्ट ने 29 मार्च को देश में बीएस- उत्सर्जन मानक वाले वाहनों की ब्रिकी और रजिस्ट्रेशन पर रोक लगा दी थी. जिसके बाद एक अप्रैल 2017 से यह रोक लागू हो गई थी. अदालत के इस आदेश से 8 लाख नए वाहनों पर असर पड़ा. जिसमें से लगभग 6.71 लाख दोपहिया वाहन थे.

साल 2010 से मार्च 2017 तक 41 ऑटोमोबाइल कंपनियों ने 13 करोड़ बीएस-तीन वाहन बनाए थे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi