S M L

हैदराबाद : नौकरी के नाम पर करोड़ो की धोखाधड़ी कर चुके रैकेट का हुआ खुलासा

जांच में सामने आया कि कंपनी ने सिर्फ भारत के 69, 962 आवेदकों के साथ धोखाधड़ी कर उनसे 28 करोड़ रुपए की वसूली की. बल्कि दूसरे देशों के 35 हजार आवेदक भी इस मामले में ठगे जा चुके हैं

Updated On: Jan 26, 2019 07:07 PM IST

FP Staff

0
हैदराबाद : नौकरी के नाम पर करोड़ो की धोखाधड़ी कर चुके रैकेट का हुआ खुलासा

हैदराबाद स्थित एक कंपनी द्वारा रोजगार देने के नाम पर धोखाधड़ी का मामला सामने आया है. कंपनी पर अब तक भारत और दूसरे देशों के करीब एक लाख से ज्यादा लोगों के साथ ठगी करने का आरोप है. धोखाधड़ी कर के कंपनी ने अब तक 28 करोड़ रुपए तक की वसूली कर ली है. इधर साइबराबाद पुलिस ने शनिवार को कंपनी के सीईओ, डॉयरेक्टर और 13 कर्मचारियों को धोखाधड़ी के आरोप में गिरफ्तार कर लिया और उनके बैंक अकाउंट को सील कर दिया गया.

टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार इस रैकेट का खुलासा तब हुआ जब 21 जनवरी को स्थानीय युवक येदुकोंदलु जी. पुलिस के पास कंपनी के खिलाफ शिकायत दर्ज कराने पहुंचा. येदुकोंदलु के 675$ नहीं मिल रहे थे, जो उसने विज्डम आईटी सर्विसेस इंडिया प्राइवेट लिमिटेड नाम की कंपनी में जमा कराए थे. कंपनी के बारे में येदुकोंदलु को खुद अजय कोला ने बताया था.कोला ने अपना परिचय इस कंपनी का सीईओ बताकर किया था.

दूसरे देशों के 35 हजार आवेदक भी  ठगे जा चुके हैं

बाद में जांच में सामने आया कि कंपनी ने सिर्फ भारत के 69, 962 आवेदकों के साथ धोखाधड़ी कर उनसे 28 करोड़ रुपए की वसूली की. बल्कि दूसरे देशों के 35 हजार आवेदक भी इस मामले में ठगे जा चुके हैं.

साइबर क्राइम पुलिस ने पाया कि कंपनी के भारत और खाड़ी देशों का 'हेड ऑफ ऑपरेशंस', उसके टीम लीडर और सेल्स एग्जिक्युटिव ने भारत और खाड़ी देशों के अलावा नीदरलैंड, जॉर्डन, श्रीलंका, ऑस्ट्रेलिया और मलयेशिया के लोगों से भी संपर्क किया और उनसे मोटी रकम वसूली.

येदुकोंदलु ने बताया कि उसने मिडल-ईस्ट में नौकरी के लिए एक wisdomjobgulf.com नाम के जॉब पोर्टल में अपना रेज्यूमे भेजा था. इसके बाद उन्हें एक सेल्स एग्जिक्युटिव का कॉल आया. एग्जिक्युटिव ने उनसे रेज्युमे को आगे बढ़ाने और प्लेसमेंट के एवज में 150 डॉलर जमा करने को कहा. पैसे जमा करने के बाद उनका टेलिफोनिक इंटरव्यू लिया गया. जॉब कंफर्मेशन का मेसेज भी आया. इसके बाद सर्टिफिकेट वेरिफिकेशन के लिए 525 डॉलर मांगे गए. पैसे जमा करने के बाद दोबारा कभी कंपनी की तरफ से कोई मेसेज नहीं आया. इतने के बाद येदुकोंदलु को यह एहसास हो गया कि वह ठगी के शिकार हो चुके हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi