S M L

छात्राओं को अच्छे नंबर के लिए इस तरह 'मनाती' थी महिला प्रोफेसर

एक मैसेज में वो कह रही हैं, 'एक छोटा लेकिन अच्छा मौका सामने है. इसलिए मेरी सलाह है कि सोचो, सोचो और सोचो.'

FP Staff Updated On: Apr 19, 2018 04:18 PM IST

0
छात्राओं को अच्छे नंबर के लिए इस तरह 'मनाती' थी महिला प्रोफेसर

कुछ समय पहले तमिलनाडु के अरुपुकोट्टई स्थित देवांगा आर्ट्स कॉलेज में स्टूडेट्स की शिकायत के बाद खुलासा हुआ कि महिला लेक्चरर लड़कियों को अच्छे नंबर और पैसों के लालच में कुछ अधिकारियों के साथ एडजस्ट करने की सलाह देती थी और इसे वो अच्छे अवसर के तौर देखने के लिए कहती थी.

इसके बाद इस घटना से जुड़ा एक ऑडियो क्लिप भी वायरल हुआ जिससे इस पूरी घटना का सच सामने आया. लेकिन अब हाल ही में न्यूज 18 के हवाले से ऐसे कुछ प्राइवेट वाट्सऐप मैसेज भी सामने आए हैं जिससे ये पता चलता है कि महिला लेक्चरर किस तरह स्टूडेंट्स को 'सेक्सुअल फेवर' के लिए मनाती थी.

एक मैसेज में वो कह रही हैं, 'एक छोटा लेकिन अच्छा मौका सामने है. इसलिए मेरी सलाह है कि सोचो, सोचो और सोचो.'

एक अन्य मैसेज में वो कह रही हैं कि वे मजबूर नहीं कर रही हैं और वो हमेशा छात्रों के 'अच्छे' के लिए सपोर्ट करती हैं.

एक अन्य मैसेज उन्होंने कहा, 'आप सभी अपनी डीपी (तस्वीर) में अपनी सबसे अच्छी फोटो लगा लें.'

एक अन्य मैसेज में निर्मला ने कहा, 'कैंपस या बाहर मुझे मैडम न कहें. मुझे अम्मा (मां) कहें.'

छात्राओं ने प्रोफेसर के मैसेजेस पर जताई नाराजगी

कुछ स्टूडेंट्स इस तरह के मैसेज के जवाब में नाराजगी जाहिर करते थे. एक स्टूडेंट ने लिखा, 'मैम, मुझे ये उम्मीद नहीं थी. यह मुझे और मेरे परिवार को सूट नहीं करता. तो आगे से मुझसे इस तरह की बात न करें. उम्मीद है कि आप समझेंगी.'

एक अन्य स्टूडेंट ने लिखा, 'दुबारा ऐसा सवाल मत पूछिएगा. आपका सवाल काफी घटिया है. आप इसे किस तरह लेती हैं, मुझे फर्क नहीं पड़ता. अगर किसी और ने ऐसा सवाल पूछा होता तो मैं इतनी शालीनता से जवाब न देती. आपकी उम्र और पोजिशन देखते हुए मैं संयम रख रही हूं. मेरी शांति को सहमति मत समझिए. भविष्य में किसी से भी इस तरह बात मत कीजिएगा.'

पुलिस शिकायत में कहा-गलत काम करवाना चाहती थीं प्रोफेसर

पुलिस शिकायत में एक स्टूडेंट ने कहा कि प्रोफेसर उनसे गलत काम करवाना चाहती थीं और उनके खिलाफ सख्त एक्शन लिया जाए. स्टूडेंट्स ने मानसिक उत्पीड़न की भी शिकायत की.

देवांगा आर्ट्स कॉलेज की शिकायत और एफआईआर के मुताबिक, '15 मार्च को निर्मला देवी ने चार स्टूडेंट्स को बुलाया और उनका फोन स्पीकर पर रखवाकर सेक्शुअल डिमांड पर सहमति जताने को मजबूर किया. प्रोफेसर ने टेक्स्ट मैसेज के जरिए भी उन्हें मजबूर किया. निर्मला ने अच्छे मार्क्स के अलावा फाइनेंशियल सपोर्ट का भी वादा किया. जांच के बाद कॉलेज ने उन्हें सस्पेंड कर दिया है.'

हालांकि, देवी ने अपनी सलाह में यौन पहलू से इंकार किया है और दावा किया है उन्होंने सही भावना से ऐसा किया और इसके पीछे कोई छिपी हुई मंशा या एजेंडा नहीं था. महिला प्रोफेसर के ऑडियो में राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित को जानने और हालिया दीक्षांत समारोह में उन तक पहुंच होने का दावा भी किया है. बाद में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करके राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित ने प्रोफेसर को पहचानने से इंकार कर दिया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
कोई तो जूनून चाहिए जिंदगी के वास्ते

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi