विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

लोकनायक भवन में हर कुछ साल में कैसे लग जाती है आग?

इमारत को दिल्ली फायर सर्विस से एनओसी जारी करने में नियमों को ताक पर रखने की बात सामने आ रही है

FP Staff Updated On: Jul 25, 2017 01:31 PM IST

0
लोकनायक भवन में हर कुछ साल में कैसे लग जाती है आग?

सोमवार को दिल्ली के लोकनायक भवन में आग लग गई- पिछले छह साल में इमारत में तीसरी बार आग लगी. इस आग में कोई हताहत नहीं हुआ. पहली नजर में देखने से ऐसा लगता है कि आग बिल्डिंग की चौथी मंजिल पर कैफेटेरिया के एयर कंडीशनिंग यूनिट के कंप्रेसर में एक शॉर्ट सर्किट से लगी.

आग की ऊंची उठती लपटों और धुएं के काले गुबार ने कुछ ही देर में इमारत को घेर लिया. फायर ब्रिगेड को आग पर काबू पाने में चार घंटे लग गए.

शहर के व्यस्ततम इलाके में स्थित इस महत्वपूर्ण बिल्डिंग में प्रवर्तन निदेशालय, सीबीआई, आयकर, एससी, एसटी और एनडीआरएफ समेत केंद्र सरकार के सैकड़ों दफ्तर हैं.

इमारत में बार-बार आग लगने की घटना को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं. इसकी वजह बीते छह साल में यहां आग लगने की तीन घटनाएं हो चुकी हैं. सूत्रों के अनुसार लोकनायक भवन ने दिल्ली फायर सर्विस से अपना नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट (एनओसी) रिन्यू नहीं किया है. इसे लेकर फायर डिपार्टमेंट ने अब अपने दस्तावेजों को खंगालना शुरू कर दिया है.

क्या इमारत की बनावट में किसी तरह की कोई गड़बड़ी है या उसके डिजाइन में खामी है जिससे आग लग जाने पर वो तेजी से फैलता है. या फायर विभाग द्वारा नियमों को ताक पर रखकर बिल्डिंग को नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट जारी किया जाना है.

आम तौर पर किसी भी इमारत में आग लगने पर शुरु का समय काफी महत्वपूर्ण होता है क्योंकि इस दौरान फायर ब्रिगेड वहां पहुंचकर आग पर काबू पा लेता है. लेकिन लोकनायक भवन के मामले में यह संभव नहीं होता. इसकी वजह उसका भीड़-भाड़ वाले इलाके में होना है. इस वजह से दमकल की गाड़ियों को वहां पहुंचने में कीमती समय नष्ट हो जाता है और तब तक आग काफी हद तक फैल चुका होता है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi