S M L

अंकित की तरह ही हिला कर रख देने वाली हैं 'ऑनर किलिंग' की ये घटनाएं

देश में 'ऑनर किलिंग' से जुड़ी कई हत्याएं हुई हैं जिसने लोगों के दिलो-दिमाग को झकझोर कर रख दिया

Updated On: Feb 04, 2018 01:43 PM IST

Ravi kant Singh

0
अंकित की तरह ही हिला कर रख देने वाली हैं 'ऑनर किलिंग' की ये घटनाएं

दिल्‍ली के 23 साल के फोटोग्राफर अंकित सक्‍सेना की एक मुस्लिम लड़की से प्रेम करने पर हत्‍या कर दी गई. इधर लड़की को उसके परिजनों ने घर में रखने से मना कर दिया है. इस हत्याकांड को 'ऑनर किलिंग' से जोड़कर देखा जा रहा है. देश में 'ऑनर किलिंग' से जुड़ी कई हत्याएं हुई हैं जिसने लोगों के दिलो-दिमाग को झकझोर कर रख दिया. आईए 'ऑनर किलिंग' की उन पांच घटनाओं पर गौर करें जिसने जनमानस को हिला कर रख दिया-

रिजवानुर रहमान मर्डर केस

घटना बंगाल की है. 21 सितंबर, 2007 को कोलकाता में रेलवे लाइन पर रिजवानुर रहमान नाम के एक शख्स की लाश मिली. घटना की तफ्तीश में पता चला कि हत्या से बमुश्किल हफ्ते भर पहले उसकी शादी प्रियंका नाम की एक लड़की से हुई थी. प्रियंका मशहूर कारोबारी अशोक तोड़ी की बेटी थी जो लक्स होजरी ग्रुप के मालिक हैं.

घटना कुछ ऐसी है कि इस प्रेमी जोड़े ने चुपके से शादी रचाई. घर वालों को खबर तक नहीं की, यह सोचकर कि आगे कोई बखेड़ा खड़ा न हो जाए. हालांकि एक दोस्त की सलाह पर इन दोनों ने पुलिस कमिश्नर (डीसी साउथ) को सनहा लिख कर इत्तला जरूर कर दी और सुरक्षा की भी गुहार लगाई. शादी बाद प्रियंका ने अपने पापा को फोन पर इसकी जानकारी दी. प्रियंका के पापा अशोक तोड़ी काफी नाराज हुए और शादी तोड़ने का दबाव बनाने लगे. तोड़ी ने पुलिस को भी भरोसे में लेकर शादी तोड़वाने की योजना बनाई. रिजवानुर पर बलात दबाव बनाकर प्रियंका को उससे अलग किया गया. प्रियंका अपने घर पहुंची जहां उसे अपने पति से बात करने तक की इजाजत नहीं दी गई. बाद में 21 सितंबर, 2007 को रिजवानुर रहमान का शव रेलवे ट्रैक पर मिला. मामला सीबीआई को सुपुर्द किया गया. अशोक तोड़ी, उसके कुछ रिश्तेदार और कुछ पुलिस अधिकारियों पर खुदकुशी के लिए उकसाने के आरोप लगे.

भावना-अभिषेक हत्याकांड

जाति से परे शादी कितना नागवार गुजर सकता है, दिल्ली की यह घटना उसका जीता जागता उदाहरण है. दिल्ली यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाली 21 साल की प्रियंका की हत्या उसी के घरवालों ने इसलिए कर दी क्योंकि उसने दूसरी जाति के लड़के अभिषेक कर ली, वह भी परिजनों को बिना बताए. इससे जुड़ी रिपोर्टों की मानें तो साउथ दिल्ली की भावना यादव को पहले तो बुरी तरीके से पीटा गया. फिर गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी गई. घर वाले उसका शव अलवर लेकर गए और चुपके से अंतिम संस्कार कर दिया. लड़की के माता-पिता के अलावा चाचा भी इस अपराध में शामिल पाया गया. भावना यादव ने घर वालों को बिना बताए 24 साल के अभिषेक सेठ से शादी कर ली. अभिषेक कैबिनेट सेक्रेटरियट में असिसटेंट प्रोग्रामर के तौर पर काम काम करता था. भावना जहां राजस्थान की यादव जाति से थी तो अभिषेक पंजाबी. भावना के घर वाले उसी की जाति के एक लड़के से शादी फिक्स कर चुके थे. इसलिए वे भावना पर लगातार अभिषेक से रिश्ता तोड़ लेने का दबाव बना रहे थे.

मनोज-बबली हत्या मामला

घटना 2007 की है. कैथल जिले के करोरा गांव के मनोज और बबली एक दूसरे को बेइंतहां मोहब्बत करते थे. जैसा कि हरियाणा के गंवई इलाकों की प्रथा है, खाप पंचायत को इस प्रेमी जोड़े की मोहब्बत मंजूर नहीं थी. इन दोनों के खिलाफ भी खाप पंचायत ने फरमान सुनाया. चौंकाने वाले फरमान के तहत मनोज और बबली को एक दूसरे को भाई-बहन के तौर पर कबूल करना था. लेकिन इन्होंने ऐसा करने से मना कर दिया. मीडिया रिपोर्टों की मानें तो इन दोनों को जबरन जहर पीने के लिए मजबूर किया गया. दोनों की गला घोंटकर हत्या करने के बाद शव नहर में फेंक दिया गया. 23 जून 2007 को इनका क्षत-विक्षत शव मिला. इसका जिक्र फिल्म एनएच 10 में भी है.

नीतीश-कटारा हत्याकांड

फरवरी 2002 की इस घटना ने देश-दुनिया को झकझोर कर रख दिया. नीतीश कटारा को विकास यादव और विशाल यादव ने सिर्फ इसलिए मार दिया क्योंकि वह विकास की बहन भारती से प्रेम करता था. विकास यादव बाहुबली नेता डीपी यादव का बेटा है जबकि विशाल उसका भतीजा. यादव परिवार ने नीतीश कटारा के इस रिश्ते को कभी मंजूर नहीं किया और इसे तोड़ने के लिए बराबर दबाव बनाते रहे. 17 फरवरी 2002 को नीतीश और भारती अपने दोस्त की शादी में शरीक होने गए. यहां विकास और विशाल पहले से मौजूद थे. ये दोनों यादव भाई नीतीश को घुमाने के बहाने बाहर लेकर गए. तीन दिन बाद नीतीश का शव एक हाइवे के नजदीक पाया गया. हथौड़े से पीटकर उसकी हत्या की गई थी और शव को आग के हवाले कर दिया गया था.

निधि-धर्मेंद्र मर्डर केस

घटना हरियाणा की है. निधि और धर्मेंद्र एक दूसरे के प्यार में और शादी करने का मन बना रहे थे. ऑनर किलिंग की इस घटना में निधि बराक (20 साल) और धर्मेंद्र बराक (23 साल) की हत्या निधि के घरवालों ने कर दी. घरवालों को इन दोनों के संबंधों पर ऐतराज था. पहले तो निधि को पीट-पीट कर मारा गया. बाद में धर्मेंद्र को जिंदा टुकड़ों में काट दिया गया. यह घटना इतनी भयानक थी कि इस बारे में कोई बात भी नहीं करना चाह रहा था. अपने तरह की इस अनोखी घटना में निधि और धर्मेंद्र की चिताएं अगल-बगल जलीं जिसमें दोनों परिवार के लोगों ने हिस्सा लिया. दिल दहला देने वाली यह घटना हरियाणा के गरनौठी की है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi