S M L

दिल्ली में मोबाइल ऐप से मिलेगी पब्लिक टायलेट्स की जानकारी

दिल्ली उच्च न्यायालय को नगर निगमों के जवाब पर विचार करते समय लगा कि शहर में पब्लिक टायलेट्स का पता लगाना कठिन है

Updated On: Sep 24, 2017 05:58 PM IST

Bhasha

0
दिल्ली में मोबाइल ऐप से मिलेगी पब्लिक टायलेट्स की जानकारी

दिल्लीवासी अब अपने एरिया में पब्लिक टायलेट्स का पता लगाने के लिए जल्द ही स्मार्टफोन पर ऐप के जरिए मदद मिलने की उम्मीद कर सकते हैं.

दिल्ली उच्च न्यायालय को नगर निगमों के जवाब पर विचार करते समय लगा कि शहर में पब्लिक टायलेट्स का पता लगाना कठिन है. इसने नगर निकायों को निर्देश दिया कि वे पब्लिक टायलेट्स तक नागरिकों की पहुंच अधिक सुलभ बनाने के लिए इन जनसुविधाओं का मानचित्रीकरण और जियोटैगिंग करें.

यदि यह निर्देश पूरी तरह लागू हो जाता है तो दिल्लीवासी पब्लिक टायलेट्स का पता लगाने के लिए जल्द ही अपने स्मार्टफोन का इस्तेमाल कर सकते हैं क्योंकि सूचना का डिजिटीकरण किया जाएगा और इसे ऑनलाइन मानचित्रों या मोबाइल एप्लीकेशन पर उपलब्ध कराया जाएगा.

हाई कोर्ट ने दिया आदेश

कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश गीता मित्तल और न्यायमूर्ति सी हरि शंकर की पीठ ने तीन हिस्सों में विभाजित दिल्ली नगर निगम के हलफनामों पर गौर किया और पीठ यह सुनिश्चित नहीं कर पाई कि इस तरह के शौचालय कहां मौजूद हैं.

पीठ ने कहा, ‘इसलिए निर्देश दिया जाता है कि नगर निगम हमारे समक्ष इन सार्वजनिक शौचालयों का मानचित्रण रखें.’

पीठ ने कहा, ‘सभी एजेंसियां जीओटैगिंग के जरिए इन सार्वजनिक शौचालयों की जगह के मानचित्रीकरण की संभावना तलाशेंगी और इसे उचित एप्लीकेशन के जरिए सभी मोबाइल धारकों को उपलब्ध कराएंगी.’ अदालत ने कहा कि इस पहलू पर उठाए गए कदमों के बारे में सुनवाई की अगली तारीख 30 अक्तूबर से पहले रिपोर्ट दायर की जाए.

इसने कहा कि उत्तरी दिल्ली नगर निगम जीओटैगिंग की संभावना तलाशने के लिए नोडल एजेंसी होगा.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi