S M L

टेरर फंडिंग केस में सईद, सलाहुद्दीन और गिलानी के दामाद के खिलाफ चार्जशीट दायर

एनआईए ने चार्जशीट में कहा है कि अलगाववादी नेताओं ने विदेशों में कई फर्जी और बोगस कंपनियां बना रखी हैं जिसका पैसा वे जम्मू-कश्मीर में मंगाते हैं और आतंक फैलाते हैं

FP Staff Updated On: Jan 18, 2018 05:14 PM IST

0
टेरर फंडिंग केस में सईद, सलाहुद्दीन और गिलानी के दामाद के खिलाफ चार्जशीट दायर

टेरर फंडिंग और मनी लॉन्ड्रिग केस में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने चार्जशीट दायर कर दिया है. इसमें लश्कर-ए-तैयबा प्रमुख हाफिज सईद, हिजबुल मुजाहिदीन प्रमुख सैयद सलाहुद्दीन और अलगाववादी धड़े के नेता मीरवाइज फारुक व सैयद अली शाह गिलानी के करीबियों के नाम शामिल हैं.

एनआईए की चार्जशीट में क्या-क्या

एनआईए ने चार्जशीट में कहा है, 'हुर्रियत नेता, आतंकवादी और पत्थरबाज जम्मू-कश्मीर में आतंकी हमले, हिंसा को बढ़ावा देने, देश को तोड़ने और पत्थरबाजी में शामिल हैं. पाकिस्तान में बैठे इनके आका इन्हें हर तरह की सहायता और फंड मुहैया कराते हैं.'

इन आरोपियों के खिलाफ कई केस जोड़े गए हैं. मसलन, भारत के खिलाफ युद्ध छेड़ना, देश तोड़ना, आपराधिक षड्यंत्र आदि. यूएपीए के तहत भी कई मामले दर्ज किए गए हैं.

एनआई का दावा

जांच एजेंसी का दावा है कि उसके पास सबूत हैं जो यह सिद्ध करते हैं कि हुर्रियत नेताओं के हाफिज सईद और सैयद सलाउद्दीन जैसे आतंकवादियों से संपर्क हैं. एनआई ने कहा है कि इन आतंकी नेताओं से निर्देश पाकर ही अलगाववादी नेताओं ने कश्मीर में रणनीति और एक्शन प्लान बनाए ताकि घाटी में भय और आतंक का माहौल कायम किया जा सके.

जांच में पाया गया है कि जिन 12 आरोपियों के नाम हैं, वे पाकिस्तानी एजेंसी से हवाला के तहत फंड पाते थे. इसमें एक हवाला कारोबारी जहूर अमहद शाह वतली का नाम सामने आया है.

बोगस कंपनी बनाकर कमाया पैसा

एनआईए ने चार्जशीट में कहा है, 'अलगाववादी नेता लाइन ऑफ कंट्रोल के पार बार्टर व्यापार के तहत इन्वायस और नकदी लेनदेन से अवैध पैसा कमाते थे. कश्मीर के इन अलगाववादी नेताओं ने विदेशों में कई फर्जी और बोगस कंपनियां बना रखी हैं जिसका पैसा वे जम्मू-कश्मीर में मंगाते हैं.'

अवैध फंडों का इस्तेमाल अलगाववादी आतंकी नेटवर्क बनाने और घाटी में बड़े स्तर पर हिंसा फैलाने व आतंकी गतिविधि को अंजाम देने के लिए करते हैं.

एनआईए ने बीते मई में मनी लॉन्ड्रिग और टेरर फंडिंग का केस दर्ज किया था. जांच एजेंसी ने जुलाई में दर्जन भर लोगों को गिरफ्तार किया जिनपर पाकिस्तानी आतंकियों से साठगांठ होने का आरोप था.

एनआईए कोर्ट में दाखिल आरोप पत्र में कहा गया है कि एजेंसी ने 950 आपराधिक कागजात और 600 इलेक्ट्रॉनिक उपकरण जब्त किए हैं जिनसे इन 12 आरोपियों के खिलाफ अपराध पुख्ता होते हैं. एनआईए का दावा है कि आरोप पत्र दायर करने के लिए उसने 300 लोगों से गवाही भी ली है.

आरोपियों में कई नामी लोग

आरोपियों में कई नामचीन हस्तियां शामिल हैं जैसे कि आफताब शाह जो कि हर्रियत के मीरवाइज धड़े का मीडिया सलाहकार और रणनीतिकार है. अन्य आरोपियों में अल्ताफ अहमद शाह का नाम है जो गिलानी का दामाद है और गिलानी धड़े के हुर्रियत का सचिव और रणनीतिकार है. एपीएचसी का नईम खान, हुर्रियत नेता और दर्जनों कश्मीरी पंडितों की हत्या का आरोपी बिट्टा कराटे भी इस सूची में शामिल है. गिलानी का पर्सनल असिस्टेंट बशीर अहमद भट का नाम भी आरोप पत्र में शामिल है.

पत्थरबाजों में कश्मीर के एक फ्रिलांस फोटोग्राफर कमरान युसूफ का नाम है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi