S M L

जानिए क्यों नहीं पूरी रात सो पाए गुरमीत राम रहीम?

कोर्ट के फैसले के बाद राम रहीम रोहतक जेल के कैदी नंबर 1997 बन गए हैं

Updated On: Aug 27, 2017 06:00 PM IST

FP Staff

0
जानिए क्यों नहीं पूरी रात सो पाए गुरमीत राम रहीम?

पंचकूला की विशेष सीबीआई अदालत ने शुक्रवार को डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को साध्वी से रेप के मामले में दोषी करार दिया है. विशेष अदालत अब 28 अगस्त को राम रहीम की सजा पर फैसला करेगी.

डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम के दुनिया भर में 5 करोड़ से अधिक अनुयायी हैं. उनकी हनक और ताकत ने हरियाणा सरकार को बेबस कर दिया. कोर्ट के फैसले के बाद राम रहीम रोहतक जेल के कैदी नंबर 1997 बन गए.

जेल औपचारिकताओं को पूरा करने के बाद राम रहीम को जेल के लिए भेजा गया और 8:30 बजे के आसपास उसे बैरक में ले जाया गया. एशो आराम के आदि राम रहीम ने जेल में रात को एक रोटी और सिर्फ एक ग्लास दूध पिया.

टाइम्स ऑफ इंडिया  की खबर के मुताबिक राम रहीम सारी रात जागते रहे और सुबह करीब 5 बजे एक घंटे योगा करने के बाद सोए.

राम रहीम को मिलने वाली स्पेशल सुविधाओं की खबरों को खारिज करते हुए जेल अधिकारियों ने कहा कि सारी औपचारिकताएं पूरी करने के बाद राम रहीम सुबह करीब 3:30 बजे सुनरिया जेल पहुंचे. जेल पहुंचने के बाद उन्हें तुरंत सेल में शिफ्ट कर दिया गया.

डीजीपी के.पी सिंह ने अपने ऊपर लगे उन सभी आरोपों को खारिज कर दिया जिसमें कहा जा रहा था कि गुरमीत राम रहीम के साथ जेल में एक महिला भी गई थी.

पुलिस महानिदेशक ने कहा कि 'जैसा हम जानते हैं कि गुरमीत को सेल में शिफ्ट कर दिया है और उसके साथ अन्य कैदियों की तरह ही व्यवहार किया जा रहा है. हम उसकी गतिविधियों के बारे में जानकारी शेयर नहीं करेंगे.'

डेरा प्रमुख की गोद ली हुई बेटी हनीप्रीत इंसान सरकारी हेलीकॉप्टर में उनके साथ पंचकूला से रोहतक गई थी.

खबरों के अनुसार उनकी बेटी उनके साथ बैरक में जाने तक साथ रहीं. इसके बाद हनीप्रीत रोहतक के आर्यनगर स्थित डेर समर्थक के घर के लिए रवाना हुईं. शनिवार को राम रहीम की बेटी रोहतक में  दूसरी जगह शिफ्ट हो गई. सूत्रों ने बताया इसके बाद गुरमीत राम रहीम को एक विशेष अप्रूवल सेल में रखा गया. जिसमें एक व्यक्ति को साधारण सुविधाएं दी जाती हैं.

जेल अथॉरिटी ने राम रहीम को जेल में मौजूद बाकी कैदियों की तरह ही रखा है उससे अतिरिक्त कोई भी सुविधा उन्हें नहीं दी गई है. जेल में जो कैदी रह रहे हैं उन्हें जेल परिसर में प्रतिदिन 20 रुपए मिलते हैं, जोकि पूरे महीने का मिलाकर 600 रुपए मेहनताना बनता है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi