S M L

गुरुग्राम में अब सिर्फ इन नौ जगहों पर होगी नमाज!

पुलिस ने नमाज के लिए वैकल्पिक व्यवस्था के तौर पर नौ स्थान बताए हैं, पिछले शुक्रवार तक गुड़गांव में 115 स्थानों पर नमाज़ हो रही थी

FP Staff Updated On: May 10, 2018 04:24 PM IST

0
गुरुग्राम में अब सिर्फ इन नौ जगहों पर होगी नमाज!

साइबर सिटी गुड़गांव में नमाज़ विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. शुक्रवार की नमाज़ को लेकर हिंदू दक्षिणपंथी संगठनों और मुस्लिमों के बीच तनाव न हो इसे लेकर पुलिस और प्रशासन अलर्ट है. मुस्लिम पक्ष की लड़ाई लड़ रहे वाजिद खान नेहरू युवा संगठन के अध्यक्ष शहजाद खान ने बताया कि पुलिस ने नमाज के लिए वैकल्पिक व्यवस्था के तौर पर नौ स्थान बताए हैं जो नाकाफी हैं, क्योंकि पिछले शुक्रवार तक गुड़गांव में 115 स्थानों पर नमाज़ हो रही थी.

शहजाद ने बताया कि उनकी पुलिस के साथ बैठक होने वाली है ताकि नमाज़ की जगह बढ़ाई जाए. एमजी रोड जैसे कई क्षेत्र ऐसे हैं जिसमें जगह नहीं दी जा रही है. पिछले दो सप्ताह में वजीराबाद, अतुल कटारिया चौक, साइबर पार्क, बख्तावर चौक और साउथ सिटी इलाकों में नमाज को 'बाधित' किया गया.

इसमें कथित रूप से विश्व हिंदू परिषद, बजरंग दल, हिंदू क्रांति दल, गौरक्षक दल और शिवसेना के सदस्य शामिल थे. अब इन संगठनों की एक संघर्ष समिति भी बन गई है. विरोध करने वाले 6 लड़कों पर केस दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया.

लेकिन मामला तब उलझा जब इस मामले में सीएम मनोहरलाल खट्टर भी कूद पड़े. उन्होंने कहा कि 'मस्जिदों, ईदगाहों और निजी स्थानों पर ही नमाज अदा की जानी चाहिए.' इसी लाइन पर प्रशासनिक अधिकारी भी बात कर रहे हैं. मंडलायुक्त डी. सुरेश ने कहा कि सड़कों और ग्रीन बेल्ट पर नमाज नहीं होने दी जाएगी.

हरियाणा के पूर्व परिवहन मंत्री एवं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आफताब अहमद ने सीएम के इस बयान को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया. उन्होंने कहा कि इससे हिंदू पक्ष के लोगों को बढ़ावा मिलेगा. समझा जाता है कि सीएम के बयान के बाद अब हिंदूवादी संगठन सरकारी खाली पड़े स्थानों पर नमाज नहीं पढ़ने देंगे. इसलिए पुलिस के सामने कानून व्यवस्था बनाए रखने की चुनौती है. उधर, विवाद के बाद कम पड़ रहे स्थान की वजह से सेक्टर-57 अंजुमन जामा मस्जिद पर चार बार नमाज पढ़ी जाएगी.

Gurgaon-namaz

सीएम के बयान के बाद हरियाणा वक्फ बोर्ड ने प्रशासन को अपनी ऐसी 19 प्रॉपर्टी की सूची दी थी जिन पर या तो कब्जा है या फिर गांव वाले वहां नमाज नहीं पढ़ने देते. बोर्ड ने कहा था कि हमारी जमीन पर कब्जा है इसलिए लोग खुले में नमाज पढ़ने को मजबूर हैं. ऐसे में प्रशासन को यह कब्जा खाली करवाना चाहिए, तब तक वे जहां नमाज पढ़ रहे हैं पढ़ने देना चाहिए.

गुड़गांव पुलिस ने नमाज के लिए ऑफर किए ये स्थान

ताऊ देवीलाल स्टेडियम

लेजर वैली पार्क कच्चा ग्राउंड

मेदांता अस्पताल के पीछे

रॉकलैंड अस्पताल मानेसर के पीछे, सेक्टर-5

धनचरी, नजदीक सिरहौल बॉर्डर के पास सरकारी जमीन पर

विजिलेंस कार्यालय के सामने सेक्टर-47

सेक्टर 5 हुडा ग्राउंड

ओबेरॉय होटल के पीछे (एचएसआईआईडीसी)

ताऊ देवीलाल पार्क सेक्टर 22

(मुस्लिमों की लड़ाई लड़ रहे शहजाद खान के अनुसार)

New Doc 2018-05-06

ये है असली समस्या!

2011 की धार्मिक जनगणना के मुताबिक गुरुग्राम की कुल आबादी 15,14,432 है. इसका 4.68 फीसदी मुस्लिम हैं. स्थायी तौर पर 70-80 हजार मुस्लिम रहते हैं. फैक्ट्रियों और कंस्ट्रक्शन साइटों पर काम करने वाले अस्थायी तौर पर रहने वाले करीब 5-6 लाख मुस्लिम हैं. इतने लोगों पर सिर्फ आठ मस्जिदें ओल्ड गुड़गांव और एक मस्जिद नए गुड़गांव में है. जबकि ज्यादा मुस्लिम आबादी नए गुड़गांव में है. इसलिए ज्यादातर लोग सरकारी खाली पड़ी जमीन पर नमाज पढ़ते हैं.

(न्यूज़18 के लिए ओम प्रकाश की रिपोर्ट)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi