S M L

'बाहुबली ब्रेन सर्जरी' का कमाल, ऑपरेशन के दौरान फिल्म देखती रही मरीज

बाहुबली ने माहिष्मती को तो बुरी ताकतों से बचाया ही था, लेकिन अब बाहुबली को सफल ब्रेन सर्जरी का क्रेडिट भी मिल रहा है.

Updated On: Oct 03, 2017 05:49 PM IST

FP Staff

0
'बाहुबली ब्रेन सर्जरी' का कमाल, ऑपरेशन के दौरान फिल्म देखती रही मरीज

बाहुबली रिलीज होने के बाद महीनों तक अमरेंद्र बाहुबली ने सिनेमाहॉल और दर्शकों के दिलों पर राज किया था. बाहुबली ने माहिष्मती को तो बुरी ताकतों से हरा ही दिया था, लेकिन अब बाहुबली को सफल ब्रेन सर्जरी का क्रेडिट भी मिल रहा है.

आंध्र प्रदेश के गुंटूर जिले में ऐसी ही घटना सामने आई है. गुंटूर के एक प्राइवेट हॉस्पिटल ने मरीज के ब्रेन सर्जरी के दौरान ऑपरेशन थिएटर में बाहुबली चलाई. सर्जरी सफल होने पर सर्जनों ने इसका क्रेडिट बाहुबली को दिया. यहां तक कि डॉक्टर्स इसे बाहुबली ब्रेन सर्जरी कहकर पुकार रहे हैं.

हॉस्पिटल का अनोखा तरीका

दरअसल, एक 43 साल की नर्स विनया कुमारी को अचानक से दौरे पड़े थे, जांच में पता चला था कि उन्हें ब्रेन ट्यूमर हैं. 21 सितंबर को गुंटूर के तुलसी मल्टी-स्पेशियलिटी हॉस्पिटल में उनका ऑपरेशन हुआ. इस ट्यूमर को हटाने के एक बहुत जटिल ब्रेन सर्जरी करनी थी. इस सर्जरी के वक्त मरीज को पूरे टाइम होश में रहना जरूरी था. इसके लिए डॉक्टरों ने अनोखा तरीका निकाला.

हॉस्पिटल ने इस सर्जरी के लिए ऑपरेशन थिएटर में लैपटॉप में बाहुबली फिल्म चला दिया. मरीज ने पूरी सर्जरी के दौरान ये फिल्म देखी. सर्जरी सफल रही. और पूरा क्रेडिट मिला बाहुबली को.

न्यूरोसर्जन डॉ. श्रीनिवास ने बताया, 'इस सर्जरी में मरीज का होश में रहना जरूरी था और फिल्म ने इसमें मदद की. मरीज को पूरी सर्जरी के बिल्कुल भी डर नहीं लगा, बल्कि वो फिल्म इंजॉय कर रही थीं और गाने गुनगुना रही थीं.'

हॉस्पिटल से डिस्चार्ज होने के बाद मरीज विनया कुमारी ने बताया कि 'सर्जरी तकरीबन डेढ़ घंटे तक चली थी, लेकिन मैं चाहती थी कि ये थोड़ी लंबी चले, ताकि मैं पूरी फिल्म देख लूं.'

सर्जरी के दौरान गिटार बजाने वाला शख्स

है न अजीब. लेकिन ये घटना ही अकेली नहीं है. कुछ दिनों पहले भी ऐसी ही एक खबर आई थी, जहां एक शख्स ने अपनी सर्जरी के दौरान पूरा वक्त गिटार बजाया था.

बेंगलुरु के 32 साल के अभिषेक प्रसाद एक न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर से परेशान चल रहे थे. उनकी शिकायत थी कि वो जब भी गिटार बजाते थे, तो उनकी बाईं हथेली की तीन उंगलियों में दर्द बना रहता था. उन्हें ये परेशानी बीते डेढ़ साल से हो रही थी. इसके बाद जब वो अपनी परेशानी लेकर डॉक्टर के पास गये तो उन्हें पता चला कि वो 'डायस्टोनिया' नामक बीमारी से पीड़ित थे.

जांच में पता चला कि गिटार बजाने में उंगलियों के लगातार प्रयोग करने के कारण उनको इस परेशानी का सामना करना पड़ रहा है.

डॉक्टरों ने बीमारी को ठीक करने के लिए सर्जरी करने का फैसला किया, वो भी उनके द्वारा गिटार बजाते हुए. करीब 7 घंटे चले इस ऑपरेशन के दौरान डॉक्टर्स लगातार अभिषेक के दिमागी मांसपेशियों को झटके दे रहे थे और वो इससे बेखबर आराम से गिटार से बजा रहे थे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi