S M L

50 करोड़ खर्च कर बनेंगे गायों के आधार कार्ड

गायों का पहचान पत्र बनेगा जिसमें गाय की नस्ल, उम्र, ऊंचाई और शरीर पर निशान की जानकारी होगी

Updated On: Feb 04, 2018 08:15 PM IST

FP Staff

0
50 करोड़ खर्च कर बनेंगे गायों के आधार कार्ड

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार अब गायों को भी इंसानों की तरह 12 अंकों का आधार नंबर देने वाली है. सरकार हर दुधारु गाय को आधार नंबर देगी. सरकार के केंद्रीय बजट के अनुसार सरकार 4 करोड़ गायों को पहचान पत्र देने के लिए  50 करोड़ रुपए खर्च करेगी.

डेयरी विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि कृषि मंत्रालय ने यूआईडी जैसी तकनीक हासिल कर ली है. जिसके जरिए गायों का पहचान पत्र बनेगा. जिसमें गाय की नस्ल, उम्र, ऊंचाई और शरीर पर निशान की जानकारी होगी. इस की कीमत 8 से 10 रुपए प्रति कार्ड होगी.

सरकार के अनुसार पशु संजीवनी नाम की पशु यूआईडी योजना डेयरी और मत्स्य पालन क्षेत्रों के लिए एक बड़ा और महत्वपूर्ण काम है. सरकार इसको किसानों की आय दोगुना करने के अपने लक्ष्य का हिस्सा बता रही है.

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बजट भाषण में 10 हजार करोड़ रुपए मत्स्य पालन और कृषि आधारभूत संरचना विकास निधि के तहत आवंटित किए हैं. देश के सभी मवेशियों की आबादी को अपग्रेड करने के उद्देश्य से, और मवेशी नस्लों को बेहतर बनाने के लिए एक अभियान के तहत लगभग 200 करोड़ रुपए अलग से रखे गए हैं.

साल 2015 में एक सरकारी कमेटी ने सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों के तहत गायों की तस्करी रोकने के लिए यूआईडी कार्ड बनाने की सिफारिश की थी. जिसको लेकर सरकार ने मौजूदा बजट में फैसला लिया है. विशेषज्ञ समिति की सिफारिशों के मुताबिक मवेशियों के मालिक ही उनके पंजीकरण के लिए जिम्मेदार होंगे. वैधानिक बिक्री के समय एक मालिक के द्वारा पंजीकृत प्रमाण दूसरे मालिक को सोंप दिया जाएगा.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi