S M L

10 सितंबर से लागू हो गया है HIV/AIDS Act-2017, अब HIV पीड़ित से भेदभाव करना अपराध

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने मंगलवार को घोषणा की है कि एचआईवी/एड्स एक्ट, 2017 को 10 सितंबर से लागू कर दिया गया है

Updated On: Sep 11, 2018 09:28 AM IST

FP Staff

0
10 सितंबर से लागू हो गया है HIV/AIDS Act-2017, अब HIV पीड़ित से भेदभाव करना अपराध

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने मंगलवार को घोषणा की है कि एचआईवी/एड्स एक्ट, 2017 को 10 सितंबर से लागू कर दिया गया है. इस बिल को पिछले साल 12 अप्रैल को लोकसभा से पास किया गया था. राज्यसभा ने भी 22 मार्च, 2017 को इसे मंजूरी दे दी थी.

2014 में इस बिल को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आज़ाद ने सदन में पेश किया था. भारत के लिए ये एक्ट काफी अहम है क्योंकि विश्व में भारत तीसरा सबसे बड़ा एचआईवी संक्रमित देश है.

समझिए क्या है HIV/AIDS Act

ह्यूमन इम्यूनोडेफिसिएंशी वायरस एंड एक्वायर्ड इम्यून डेफिसिएंशी सिंड्रोम (प्रिवेंशन एंड कंट्रोल) बिल, 2017 नाम का ये एक्ट एचआईवी कम्यूनिटी के लिए कानून मजबूत करने के लिए पास किया गया है. इससे इस समुदाय के लोगों को लीगल सैंक्टिटी यानी कानूनी शुद्धता यानी न्याय का अधिकार दिया जाएगा.

ये बिल क्यों लाया गया है?

इस बिल के तहत भारत में एचआईवी को रोकने और फैलने से रोका जाएगा. खास बात ये है कि इस बिल के अंदर ऐसा प्रावधान कर दिया गया है, जिससे किसी एचआईवी पीड़ित के साथ भेदभाव करना अपराध घोषित होगा. UNAIDS गैप रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में 2015 तक 20 लाख के आस-पास लोग एचआईवी पीड़ित थे. अकेले 2015 में 68,000 से ज्यादा एड्स से संबंधित मौतें हुई थीं, वहीं 86,000 नए लोगों में एचआईवी इन्फेक्शन के लक्षण पाए गए थे. अब तक ये संख्या लाखों में बढ़ गई होगी. इसके साथ ही एचआईवी/एड्स पीड़ितों के साथ भेदभाव की समस्या अलग है ही. इसलिए ये एक्ट काफी अहम है.

नए प्रावधान क्या कहते हैं?

1. इस एक्ट के तहत एचआईवी पीड़ित नाबालिग को परिवार के साथ रहने का अधिकार मिलता है और उनके खिलाफ भेदभाव करने और नफरत फैलाने से रोकता है.

2. इस एक्ट के तहत मरीज को एंटी-रेट्रोवाइरल थेरेपी का न्यायिक अधिकार मिल जाता है. इसके तहत हर मरीज को एचआईवी प्रिवेंशन, टेस्टिंग, ट्रीटमेंट और काउंसलिंग सर्विसेज का अधिकार मिलेगा. साथ ही इस एक्ट के तहत राज्य और केंद्र सरकार को ये जिम्मेदारी दी गई है कि मरीजों में इंफेक्शन रोकने और उचित उपचार देने में मदद करे. सरकारों को इन मरीजों के लिए कल्याणकारी योजनाएं शुरू करने को भी कहा गया है.

3. इस बिल में इन मरीजों के खिलाफ भेदभाव को भी परिभाषित किया गया है. इसमें कहा गया है कि मरीजों को रोजगार, शिक्षा, स्वास्थ्य प्रॉपर्टी, किराए पर मकान जैसी सुविधाओं को देने से इनकार करना या किसी तरह का अन्याय करना भेदभाव होगा. इसके साथ ही किसी को नौकरी, शिक्षा या स्वास्थ्य सुविधा देने से पहले एचआईवी टेस्ट करवाना भी भेदभाव होगा.

4. इसमें कहा गया है कि किसी भी मरीज को उसकी सहमति के बिना एचआईवी टेस्ट या किसी मेडिकल ट्रीटमेंट के लिए मजबूर नहीं किया जा सकता. एक एचआईवी पॉजिटिव व्यक्ति तभी अपना स्टेटस उजागर करने पर मजबूर होगा, जब इसके लिए कोर्ट का ऑर्डर लिया जाएगा. हालांकि, लाइसेंस्ड ब्लड बैंक और मेडिकल रिसर्च के उद्देश्यों के लिए सहमति की जरूरत नहीं होगी, जब तक कि उस व्यक्ति के एचआईवी स्टेटस को सार्वजनिक न किया जाए.

आप यहां क्लिक कर HIV/AIDS Act, 2017 को विस्तार से पढ़ सकते हैं

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi