S M L

नोटबंदी: सरकार का तहलका, बैंकों के स्टिंग का हौवा या हकीकत

सरकार द्वारा देश के 500 से भी अधिक निजी और सरकारी बैंकों की स्टिंग करवाने की खबर

Updated On: Dec 12, 2016 10:22 PM IST

Ravishankar Singh Ravishankar Singh

0
नोटबंदी: सरकार का तहलका, बैंकों के स्टिंग का हौवा या हकीकत

सरकार जमाखोरी के मामले को उजागर करने के लिए कई मोर्चे पर लड़ाई लड़ रही है. इसी कड़ी में सरकार द्वारा देश के 500 से भी ज्यादा निजी और सरकारी बैंकों की स्टिंग करवाने की खबर आई है.

बैंक यूनियन ने कहा है कि कर्मचारियों पर भारी दबाव है. ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष (एआईबीओए) एस एस शिशोदिया ने कहा कि एक तो कर्मचारियों पर दबाव है. दूसरी तरफ हमारे लोगों को शक के नजर से देखा जा रहा है.

ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष एस एस शिशोदिया ने फ़र्स्ट पोस्ट हिन्दी से बात करते हुए कहा, ‘जिन्होंने गलत किया है, हम लोग उनके पक्ष में नहीं  हैं, लेकिन उन लोगों पर पूरी जांच के बाद ही कार्रवाई हो.'

शिशोदिया ने आगे कहा, 'जो शिकायतें शुरू में आ रही थीं, उनमें से ज्यादातर गलत साबित हुई हैं. हम उन लोगों के बिल्कुल खिलाफ हैं जिन लोगों ने सरकार के निर्देश के खिलाफ काम किया है. चाहे उन्होंने पैसे बनाए हों या नहीं बनाएं हों.'

ज्यदातर गड़बड़ियां प्राइवेट बैंकों में 

शिशोदिया ने कहा, 'ज्यादातर खामियां सरकार के डायरेक्टिव की हैं. बैंकों में 20 प्रतिशत भी कैश नहीं है. लोगों को लग रहा है कि बैंक वाले गलत कर रहे हैं.’

एस एस शिशोदिया आगे कहते हैं, ‘देखिए ज्यदातर गड़बड़ियां प्राइवेट बैंकों में पहले से भी होती आ रही हैं. प्राइवेट बैंक केवाईसी नॉर्म फॉलो नहीं करते हैं. 90 प्रतिशत आतंकियों के फंड प्राइवेट बैंक के जरिए रूट हो रहे थे.'

अध्यक्ष का कहना है, 'पब्लिक सेक्टर के बैंकों में छोटे-मोटे एकाउंट को छोड़ कर कंप्लीट नो यॉर कस्टमर (केवाईसी) नार्म को फॉलो किया जाता है.

शिशोदिया आगे कहते हैं, 'सरकार का तब तक साथ देंगे जब तक वह केवाईसी नार्म को पालन नहीं करने वाले कर्मचारियों पर कार्रवाई करती है. जिस दिन केवाईसी नार्म पालन करने वाले लोगों पर कार्रवाई करेगी, उस दिन हमलोग चुप नहीं रहेंगे’

FM Arun Jailtey meets bankers

सरकार द्वारा किए कथित स्टिंग में बैंक के अधिकारी, पुलिस, जालसाज और दलालों की मिलीभगत सामने आ रही है. बैंक अधिकारियों और दलालों के बीच गैरकानूनी तरीके से नोट बदले जाने के सबूत मिले हैं. वित्त मंत्रालय ने यह स्टिंग देश के कई शहरों में करवाया है.

एबीपी न्यूज के हवाले से खबर है कि, ‘बैंक शाखाओं में कराए स्टिंग की सीडी वित्त मंत्रालय को भेजी जा चुकी है. सीडी में दिखाया गया है कि नए नोटों को पाने के लिए जूझते देश के लोगों को किस तरह बैंक के कर्मचारी सलूक कर रहे हैं.’

एबीपी न्यूज के हवाले से खबर आई है कि, ‘इस ऑपरेशन के बाद से सरकार की ओर से भ्रष्ट अधिकारियों के खिलाफ रणनीति बनाई जा रही है, पर देश के लोगों को दिक्कतों को ध्यान में रखते हुए अभी कदम नहीं उठाए जा रहे हैं’

फिर भी, वित्त मंत्रालय ने उन बैंकों पर लगाम कसना शुरू कर दिया है, जिन बैंकों में सबसे ज्यादा काले से सफेद करने के मामले उजागर हुए हैं. सरकार के इस कदम से जमाखोरी में शामिल  बैंक अधिकारियों पर भी गाज गिरने की संभावना बढ़ गई है.

Narendra_Modi_

मोदी के निशाने पर बैंक और बैंक आधिकारी

नोटबंदी की इस अभियान में देश के कुछ बैंकों की भूमिका को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं. पीएम मोदी ने गुजरात के बनासकांठा में 10 जनवरी को नोटबंदी को लेकर बैंकों पर कठोर कार्रवाई करने की बात कही थी. 500 से अधिक बैंकों के स्टिंग ऑपरेशन को इसी कड़ी से जोड़ कर देखा जा रहा है.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था, ‘ दो महीने, तीन महीने और छह महीने नहीं, अभी होगी कार्रवाई. मैं देश के लोगों को भरोसा देता हूं कि जिस किसी ने भी देश के 125 करोड़ जनता के सपने को तोड़ने का काम किया है, उन्हें हर हालत में बख्शा नहीं जाएगा.’

इंडियन फाइनेंशियल इंटेलिजेंस यूनिट के रडार पर बैंक

सरकार की कई एजेंसियों की नजर बैंकों पर है. देश के कुछ सरकारी और निजी बैंक जैसे एक्सिस बैंक, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, केनरा बैंक, सिंडीकेट बैंक और कॉपरेटिव बैंक के कुछ अधिकारियों की गिरफ्तारी भी हो चुकी है.

देश के कई हिस्सों में आयकर विभाग का छापा लगातार चल रहा है. आयकर विभाग ने ही दिल्ली के चांदनी चौक के एक्सिस बैंक में छापा मार कर 100 करोड़ रुपए को काले से सफेद करने का खुलासा किया था. चांदनी चौक के एक्सिस बैंक के 44 फर्जी खातों में 100 करोड़ रुपए मिले थे. नोटबंदी के बाद इस ब्रांच में लगभग 500 करोड़ रुपए जमा किए जा चुके हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi