विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

गोरखपुर त्रासदी: परिजन बोले- अचानक झटका लगा, थम गई बच्चे की सांस

पास ही कुशीनगर के गांव महुआडीह की एक 3 साल की बच्ची भी ऑक्सीजन की कमी से मारी गई.

FP Staff Updated On: Aug 13, 2017 11:35 AM IST

0
गोरखपुर त्रासदी: परिजन बोले- अचानक झटका लगा, थम गई बच्चे की सांस

गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में जहां गुरुवार रात को कथित रूप से ऑक्सीजन की कमी से बच्चे तड़प-तड़प कर मर रहे थे. वहीं इन बच्चों के परिजन डॉक्टरों के आगे जिगर के टुकड़े की जिंदगी को बचाने के लिए भीख मांग रहे थे. लेकिन बीआरडी मेडिकल कॉलेज की लापरवाही से ये बच्चे मौते के गाल में एक-एक कर समा गए.

बीआरडी मेडिकल कॉलेज परिसर में जहां चारों तरफ अफरातफरी का माहौल था. इन अकाल मौत के शिकार बच्चों के परिजनों ने उस रात का खौफनाक सच बताया.

महाराजगंज जिले के रहने वाले राजेश की 7 साल की मासूम बेटी सोनी को सुबह अचानक झटके आने लगे. परिजन अस्पताल लेकर गए लेकिन वहां ऑक्सीजन की कमी से उसकी सांस थम गई. मौत का अहसास तो घरवालों को भी फ़ौरन हो गया था लेकिन हंगामे के डर से डॉक्टर घरवालों को झूठा दिलासा देते रहे.

पास ही कुशीनगर के गांव महुआडीह की एक 3 साल की बच्ची भी ऑक्सीजन की कमी से मारी गई. सुनील की बेटी शालू को बुखार के बाद अस्पताल में भर्ती करवाया था. जहां पहले तो डॉक्टरों ने गोल मोल बातें कीं और फिर मौत की ख़बर दे दी. यहां तक कि पूछने पर डॉक्टरों ने उन्हें डांट-डपट कर भगा दिया.

वहीं वंदना को अभी महज़ दो दिन पहले ही तो मामूली सा बुखार हुआ था. डॉक्टरों ने उन्हें अस्पताल में ऑक्सीजन ख़त्म होने की बात कहते हुए एक बैलून जैसी चीज़ देकर उसे लगातार पंप कर वंदना को मैनुअली ऑक्सीजन देते रहने को कहा.

समय-समय पर डॉक्टरों के कहने पर कभी ख़ून तो कभी दवाओं के लिए घरवालों की भागदौड़ चलती रही. लेकिन शुक्रवार की सुबह सूरज की पहली रौशनी के साथ ही वंदना सिर्फ़ ऑक्सीजन की कमी की वजह से सबको छोड़ कर इस दुनिया से दूर चली गई. फिलहाल योगी सरकार ने कार्रवाई करते हुए प्रिसिंपल को सस्पेंड कर दिया है. वहीं सरकार से लेकर विपक्षी पार्टियों के नेताओं का दौरा जारी है.

(साभार न्यूज 18)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi