S M L

'गैंग्स ऑफ वासेपुर' स्टाइल में मारने वाला हत्यारा गिरफ्तार

पुलिस का कहना है कि कुख्यात अविनाश 18 से भी अधिक हत्याएं कर चुका है

Updated On: Dec 10, 2017 05:09 PM IST

FP Staff

0
'गैंग्स ऑफ वासेपुर' स्टाइल में मारने वाला हत्यारा गिरफ्तार

उसके पिता की गोली मारकर हत्या कर दी गई. बदले में उसने अपराधी को 36 गोली मारकर मौत की नींद सुला दिया. देखते ही देखते इंफोसिस में नौकरी करने वाला आईटी प्रोफेशनल अविनाश श्रीवास्तव साइको किलर बन गया. आज उसके हाथ 18 से अधिक हत्याओं में खून से सने हैं.

शनिवार को पटना एसटीएफ और वैशाली पुलिस की संयुक्त अभियान में बिहार के इस साइको किलर को वैशाली के बिदुपुर से गिरफ्तार किया गया है. ये एक-दो नहीं, पूरे 18 हत्‍याओं में वांछित था.

वो सुपारी लेकर भी हत्‍याएं करता था और इसके लिए उसकी मां डील फाइनल करती थी. पुलिस ने उसकी मां कंचन देवी को भी गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस को अविनाश की तलाश पिछले सप्ताह सेवानिवृत्‍त शिक्षक सहदेव राय की हत्या सहित कई अन्‍य मामलों में थी.

आईटी प्रोफेशनल से बना साइको किलर 

अविनाश की पूरी कहानी किसी क्राइम थ्रिलर से कम नहीं है. वो इंफोसिस नामक कंपनी में नौकरी कर रहा था. साल 2003 में उसके एमएलसी पिता ललन श्रीवास्तव की हत्या कर दी गई. वे आरजेडी से एमएलसी थे.

आरोप उस वक्त के कुख्‍यात मोइन खां उर्फ पप्पू खां गैंग पर लगा. बदले की भावना से भरे अविनाश ने 2003 में मोइन खां के सीने में 32 गोलियां उतार दी थीं. इस घटना के बाद वो साइको किलर बन गया.

हाल ही में वैशाली के बिदुपुर इलाके में बीते दिनों रिटायर शिक्षक सहदेव राय की गोली मारकर हत्या हुई थी. इसी मामले में पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार किया है. वहीं एक अपराधी धर्मेंद्र अभी भी पुलिस की गिरफ्तर से बाहर है.

18 से अधिक हत्याएं कर चुका है अविनाश 

पुलिस के मुताबिक अपराधियों ने रिटायर शिक्षक हत्याकांड में अपनी संलिप्तता स्वीकार की है. पुलिस का कहना है कि कुख्यात अविनाश 18 से भी अधिक हत्याएं कर चुका है.

अविनाश का कहना है कि वो मरने के बाद ही हत्याएं करना बंद कर सकता है. उसने ये भी कहा कि अगर मेरे बारे में किसी को कुछ जानकारी लेनी हो तो गूगल पर अविनाश साइकोपाथेटिक किलर टाइप करने से मिल जाएगा. उसने कहा कि जब तक कि उसके पिता की हत्या नहीं हुई थी, जीवन बहुत सही चल रहा था.

वैशाली एसपी राकेश कुमार के मुताबिक अविनाश अपने साथी धर्मेंद्र के कहने पर रिटायर शिक्षक की गोली मारकर हत्या कर दी थी. इस हत्याकांड में अविनाश के साथ सतीश और धर्मेंद्र भी शामिल था.

पुरानी दुश्मनी को लेकर धर्मेंद्र ने अविनाश और सतीश के साथ मिलकर इस हत्याकांड को अंजाम देकर फरार हो गया था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi