S M L

फ्रांस के राष्ट्रपति भारत पहुंचे, आतंकवाद-समुद्री सुरक्षा पर होगी बात

फ्रांस के सहयोग से बन रहे जैतापुर एटमी बिजली प्लांट को लेकर समझौते पर हस्ताक्षर होने की उम्मीद है

Bhasha Updated On: Mar 10, 2018 10:45 AM IST

0
फ्रांस के राष्ट्रपति भारत पहुंचे, आतंकवाद-समुद्री सुरक्षा पर होगी बात

फ्रांस के राष्ट्रपति एमानुएल मैक्रोन चार दिन के दौरे पर शुक्रवार की रात भारत पहुंचे हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रोटोकॉल तोड़कर एयरपोर्ट पर उनकी अगवानी की. मैक्रोन के साथ उनकी पत्नी ब्रिगित मैरी क्लाउड मैक्रोन के अलावा उनके कैबिनेट के वरिष्ठ मंत्री आए हैं.

उनकी इस यात्रा के दौरान दोनों देश समुद्री सुरक्षा व आतंकवाद से निपटने को लेकर विशेष रूप से गौर करेंगे. सूत्रों ने कहा कि इस दौरान फ्रांस के सहयोग से बन रहे जैतापुर (महाराष्ट्र) एटमी बिजली प्लांट को लेकर भी समझौते पर हस्ताक्षर होने की उम्मीद है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मैक्रोन के बीच शनिवार को बातचीत में हिंद महासागर में सहयोग बढ़ाने का मुद्दा प्राथमिकता पर लिया जा सकता है.

आतंकवाद, समुद्री सुरक्षा पर होगी बात

भारत आने के बाद शनिवार को मैक्रोन और उनकी पत्नी ब्रिगित मैक्रोन ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और उनकी पत्नी सरिता कोविंद से मुलाकात की. इस मौके पर उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया. मुलाकात के बाद राष्ट्रपति मैक्रोन ने कहा, दोनों देशों के बीच बहुत अच्छा सामंजस्य है, इन दोनों लोकतंत्रों के बीच एक ऐतिहासिक रिश्ता है.

संयुक्त सचिव (यूरोप पश्चिम) के नागराज नायडू ने पत्रकारों से कहा, ‘फ्रांस विशेष रूप से दक्षिण एशिया में आतंकवाद को लेकर भारत के नजरिये का समर्थन करता है. हम नए क्षेत्रों खासकर समुद्री सुरक्षा, आतंकवाद रोकने के उपाय व अक्षय ऊर्जा जैसे क्षेत्रों में दोनों की बढ़ती सहमति देख रहे हैं.’

इसके अलावा भारत और फ्रांस के बीच रणनीतिक भागीदारी में रक्षा, एटमी ऊर्जा व अंतरिक्ष के क्षेत्र में सहयोग का मामला शामिल है. नायडू ने कहा, ‘अंतरिक्ष के क्षेत्र में भारत और फ्रांस के बीच एक गठजोड़ है और हम इसे नए स्तर ले जाना पसंद करेंगे.’ भारत और फ्रांस के बीच अंतरिक्ष के क्षेत्र में सहयोग पांच दशक से भी पुराना है.

ताजमहल देखेंगे, बनारस-मिर्जापुर का दौरा करेंगे

अक्षय ऊर्जा, हाई स्पीड ट्रेन और व्यापार में सहयोग बढ़ाने पर भी जोर होगा. पीएम मोदी के साथ शनिवार को वार्ता के बाद मैक्रोन छात्रों के साथ एक खुली चर्चा में शामिल होंगे. इसमें करीब 300 छात्रों के भाग लेने की उम्मीद है. इसी दिन वह ‘ज्ञान सम्मेलन ’ में भी भाग लेंगे. इसमें दोनों पक्षों के 200 से अधिक शिक्षाविद शामिल होंगे.

इस यात्रा के दौरान राष्ट्रपति मैक्रोन अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन (आईएसए) के शिखर सम्मेलन में भाग लेंगे. आईएसए भारत और फ्रांस की संयुक्त पहल का नतीजा है. आईएसए शिखर सम्मेलन में कई देशों और सरकार के प्रमुखों के शामिल होने की संभावना है इसमें ठोस परियोजनाओं पर जोर दिए जाने की संभावना है. उसी दिन वह ताज महल देखने जाएंगे. राष्ट्रपति मैक्रोन 12 मार्च को वाराणसी भी जाएंगे. वाराणसी प्रधानमंत्री मोदी का लोकसभा क्षेत्र है. प्रधानमंत्री के साथ वह उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर में सौर प्लांट का उद्घाटन करेंगे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Test Ride: Royal Enfield की दमदार Thunderbird 500X

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi