S M L

राजकोट: 11 वर्षीय रेप पीड़िता ने दिया बच्ची को जन्म, नवजात के बचने की संभावना कम

पुलिस ने इस मामले में सभी 6 आरोपियों को पहले ही गिरफ्तार कर लिया गया है

Updated On: Mar 20, 2018 08:39 PM IST

FP Staff

0
राजकोट: 11 वर्षीय रेप पीड़िता ने दिया बच्ची को जन्म, नवजात के बचने की संभावना कम

छह लोगों द्वारा कथित तौर पर बलात्कार की शिकार बनी 11 वर्षीय लड़की ने 17 मार्च को राजकोट के सरकारी अस्पताल में एक बच्ची को जन्म दिया था.  इंडियन एक्सप्रेस में छपी खबर के मुताबिक बच्ची के स्वास्थ्य पर नजर रखने के लिए सिविल अस्पताल राजकोट ने पैड्रियाटिक और न्यूरोलॉजी विभाग के डॉक्टरों की क टीम बनाई है. बच्ची सिर्फ 4 दिनों की है. बच्ची को कॉन्जाइटल डिफेक्ट है जिसे स्पाइना बाइफिडा बीमारी कहा जाता है, यह वह स्थिति है जब स्पाइन और स्पाइनल कोर्ड पूरी तरह विकसित नहीं हो पाता है. इससे किसी को लकवा मार देता है और उसे जीने के लिए संघर्ष करना पड़ता है.

बच्ची का इलाज कर रहे डॉ. राकेश जोशी ने कहा कि हमने बच्ची की हर तरह से जांच-पड़ताल की और इस नतीजे पर पहुंचे हैं कि बच्ची का ऑपरेशन करना अधिक मुश्किल है. जब जोशी से बच्ची के जीवित रहने की बात पूछी गई तो जोशी ने कहा कि बच्ची के बचने की आशंका काफी कम है.

डॉक्टर ने कहा कि स्पाइन को ढकने वाली चमड़ी काफी पतली है और यह कभी भी खुल सकती है, इसकी वजह से बच्ची को कई तरह के इंफेक्शन हो सकते हैं. बच्ची की देखभाल करने वाली महिला कांस्टेबलों ने कहा कि हम इस बात से दुखी हैं कि बच्ची बहुत अधिक दिनों तक नहीं बच सकती है. हमें बच्ची को वापस राजकोट ले जाने के लिए कहा गया है.

पुलिस ने इस मामले में सभी 6 आरोपियों को पहले ही गिरफ्तार कर लिया गया है. पीड़िता की मां द्वारा भक्तिनगर थाने में दर्ज कराई गई शिकायत के आधार पर नानजी जाविया (67) और अरविंद कुबावत (60) को 13 मार्च को गिरफ्तार किया गया था.

पुलिस ने बताया कि उनसे पूछताछ में खुलासा हुआ कि छह लोगों ने अलग- अलग समय पर लड़की से बलात्कार किया था. लड़की की मां द्वारा दर्ज कराए गए एफआईआर के मुताबिक, एक गरीब परिवार से ताल्लुक रखने वाली लड़की को दोनों ने कथित तौर पर धन का प्रलोभन दिया और उसके साथ बलात्कार किया.

एक पुलिस अधिकारी ने बताया, ‘बीमारी के कारण लड़की का पिता बेरोजगार है और उसकी मां घरों में काम करती है. उन्होंने लड़की को पैसों का प्रलोभन दिया. यह मामला उस समय प्रकाश में आया जब वह आठ महीने की गर्भवती पाई गई.’ उन्होंने बताया, ‘शुरुआत में लड़की ने अपने परिवार के सदस्यों से घटनाको छुपाया लेकिन बाद में अपनी मां को बता दिया.’

अधिकारी ने बताया कि बलात्कार और यौन अपराध से बच्चों की सुरक्षा कानून (पोक्सो) के तहत आरोपियों के खिलाफ बलात्कार का मामला दर्ज किया गया है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi