S M L

सुप्रीम कोर्ट उन्हें बेगुनाह साबित करता, उससे पहले ही दुनिया छोड़ गए इसरो वैज्ञानिक चंद्रशेखर

चंद्रशेखर की पत्नी ने बताया कि सुबह से ही वह सुप्रीम कोर्ट के फैसले की बाट जोह रहे थे, वह जानते थे कि आज फैसला आएगा और उन्हें विश्वास था कि सभी लोगों की जीत होगी

Updated On: Sep 18, 2018 08:49 PM IST

Bhasha

0
सुप्रीम कोर्ट उन्हें बेगुनाह साबित करता, उससे पहले ही दुनिया छोड़ गए इसरो वैज्ञानिक चंद्रशेखर

पूर्व अंतरिक्ष वैज्ञानिक के चंद्रशेखर दशकों से सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले का बेहद बेकरारी से इंतजार कर रहे थे, लेकिन तनाव, प्रताड़ना और हजारों दिक्कतों से भरे ढ़ाई दशक काटने के बाद जब शुक्रवार को उनके पक्ष में फैसला आया तो वह सुनने के लिए नहीं थे. वह कोमा में चले गए थे.

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) जासूसी कांड पर अपने फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि 1994 के जासूसी मामले में इसरो के पूर्व वैज्ञानिक नंबी नारायणन को ‘गैरजरूरी तौर पर गिरफ्तार किया, सताया गया और मानसिक क्रूरता से गुजारा’ गया.

सुप्रीम कोर्ट ने नारायणन को मानसिक क्रूरता के एवज में 50 लाख रुपए का मुआवजा देने का भी आदेश दिया था. इसरो जासूसी कांड के छह आरोपियों में नारायणन के साथ चंद्रशेखर भी शामिल थे.

सुप्रीम कोर्ट का दीर्घप्रतीक्षित फैसला शुक्रवार को 11 बजे आया, लेकिन तब तक चंद्रशेखर कोमा में जा चुके थे. डबडबाई आंखों से उनकी पत्नी केजे विजयम्मा ने मंगलवार को बताया, ‘वह शुक्रवार को सुबह सवा सात बजे कोमा में चले गए और रविवार को कोलंबिया एशिया अस्पताल में रात 8.40 बजे अंतिम सांस ली.’

उन्होंने बताया कि सुबह से ही वह सुप्रीम कोर्ट के फैसले की बाट जोह रहे थे. वह जानते थे कि आज फैसला आएगा और उन्हें विश्वास था कि सभी लोगों की जीत होगी. लेकिन दो दशक से ज्यादा के लंबे इंतजार के बाद जब फैसला आया तो सुनने के लिए वह नहीं थे. चंद्रशेखर ने भारतीय प्रतिनिधि के तौर पर रूसी अंतरिक्ष एजेंसी ग्लोवकोस्मोस में काम किया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi