S M L

दिल्ली के पूर्व मुख्य सचिव ने खोले नौकरशाही के कई राज

सैगल ने कहा, ‘सिविल सर्वेंट के तौर पर मैं वाकई कभी धारा में घुल-मिल नहीं पाया बल्कि सदैव अपनी वैयक्तिक भावना बनाने के लिए संघर्षरत रहा

Updated On: Oct 08, 2017 03:44 PM IST

Bhasha

0
दिल्ली के पूर्व मुख्य सचिव ने खोले नौकरशाही के कई राज

दिल्ली के पूर्व मुख्य सचिव ओमेश सैगल ने एक पुस्तक लिखी है जो उच्च नौकरशाही के बीच होने वाली चीजों की रोचक तस्वीर और उनकी मानसिक पीड़ा की झलक पेश करती है.

सैगल कहते हैं ‘आईएएस: टेल टोल्ड बाई एन आईएएस’ नामक पुस्तक ‘मेरे दृष्टिकोण से’ कही गई है लेकिन ‘मैं प्रतिनिधि के तौर पर बातें रखने का दावा नहीं करता.’ हरानंद प्रकाशन द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक में उनकी सेवा के दौरान उनके अनुभवों को समेटा गया है.

सैगल ने कहा, ‘सिविल सर्वेंट के तौर पर मैं वाकई कभी धारा में घुल-मिल नहीं पाया बल्कि सदैव अपनी वैयक्तिक भावना बनाने के लिए संघर्षरत रहा. सेवानिवृति दानव जैसा नहीं है और न मैं उसे अपने ऊपर बोझ बनने दूंगा.’ इस पुस्तक में अधिकारियों के तबादलों, मंत्रियों एवं प्रधानमंत्रियों के साथ संवाद जैसी कई घटनाओं का उल्लेख है. सैगल ने 1962 में IIT से स्नातक किया था और वह 1964 में भारतीय प्रशासनिक सेवा में आए.

ओमेश सैगल ने बीडीओ और एसडीएम से लेकर दिल्ली के मुख्य सचिव एवं केंद्र सरकार में सचिव तक शासन में विभिन्न स्तरों पर काम किया. साल 2001 में सेवानिवृति के पश्चात वह राष्ट्रीय खाद्य प्रसंस्करण आयोग में अध्यक्ष बने और कई निकायों में काम किया. उन्होंने टीवी, महत्वपूर्ण अखबारों एवं पत्रिकाओं के लिए लेखनी चलाई.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi