S M L

पंचायत का फरमान: बच्ची से टूटा अंडा तो कर दिया जाति से बाहर, 11 दिन अकेले रही मासूम

राजस्थान में अनजाने में पैर से टिटहरी का अंडा टूट जाने पर पांच साल की बच्ची को समाज से बहिष्कृत कर परिवार से दूर बिना खाना-पानी के अकेला छोड़ दिया गया था

Updated On: Jul 12, 2018 09:15 PM IST

Bhasha

0
पंचायत का फरमान: बच्ची से टूटा अंडा तो कर दिया जाति से बाहर, 11 दिन अकेले रही मासूम

अनजाने में पैर से टिटहरी का अंडा टूट जाने पर पांच साल की बच्ची को समाज से बहिष्कृत कर परिवार से दूर बिना खाना-पानी के अकेला छोड़ दिया गया था. घटना के बारे में पता चलने पर इस संबंध में मामला दर्ज किया गया है. हिंडोली थाने के प्रभारी लक्ष्मण सिंह ने बताया कि आज 10 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया.

बेसहारा बच्ची की हालत के बारे में जानकारी मिलने पर राज्य के बाल अधिकार आयोग की प्रमुख मनन चतुर्वेदी के आदेश पर मामला दर्ज किया गया. बच्ची पिछले 11 दिनों से अपने घर की चौखट से दूर रह रही थी और कुछ दूरी से उसकी थाली में खाना फेंक दिया जाता था.

पड़ोस के बूंदी जिले के हरीपुरा गांव में अपने स्कूल परिसर में अनजाने में टिटहरी का अंडा कुचलने के कारण लड़की को शुरुआत में तीन दिन के लिए और इसके बाद आगे और आठ दिनों के लिए जाति से बाहर कर दिया गया था.

टिटहरी का अंडा टूट जाने को लेकर अंधविश्वास की वजह से लड़की को जाति से बाहर कर दिया गया और उसे सजा दी गई. समुदाय का मानना है कि अंडा टूटने से समुदाय को अपशकुन झेलना होगा और गांव में बारिश नहीं होगी.

यह मामला तब सामने आया जब लड़की के पिता ने तहसीलदार से शिकायत कर दी कि समुदाय का प्रमुख फरमान वापस लेने के लिए महंगी शराब और खाने पीने की सामग्री की मांग कर रहा है. तहसीलदार से शिकायत के बारे में जानकर समुदाय प्रमुख ने बुधवार रात लड़की के समूचे परिवार को जाति से बाहर घोषित कर दिया.

राजस्थान राज्य बाल संरक्षण आयोग की अध्यक्ष मनन चतुर्वेदी ने गुरुवार सुबह गांव का दौरा किया. पुलिस ने भारतीय दंड संहिता (आईपीसी), जुवेनाइल जस्टिस एंड अनटचेबिलिटी एक्ट के विभिन्न प्रावधानों के तहत मामला दर्ज किया गया है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi