S M L

साल के पहले दिन घने कोहरे की वजह से ट्रेनों और हवाई उड़ानों पर असर

साल 2018 की पहली सुबह घना कोहरा लेकर आई. दिल्ली से लेकर पूरा उत्तर भारत इसकी चपेट में है। विमानों से लेकर ट्रेनों तक की रफ्तार थमती नजर आ रही है

Updated On: Jan 01, 2018 01:02 PM IST

FP Staff

0
साल के पहले दिन घने कोहरे की वजह से ट्रेनों और हवाई उड़ानों पर असर

साल 2018 की शुरुआत घने कोहरे से हुई है. बात दिल्ली की करें तो यहां धुंध और कोहरे ने नए साल के पहले दिन अपनी पूरी रंगत दिखला दी. हालत यहां तक पहुंच गई कि दृश्यता महज 50 मीटर तक सिमट गई और सड़कों पर गाड़ियां रेंगती दिखीं. सबसे ज्यादा असर हवाई उड़ानों पर पड़ा, जहां दिल्ली से लेकर पूरे उत्तर भारत में टेकऑफ से लेकर लैंडिंग तक में खासी परेशानी देखी जा रही है.

जहां-तहां फंसे सैलानी

नए साल पर मौज-मस्ती के लिए निकले हजारों सैलानी देश के हवाई-अड्डों पर जहां-तहां फंसे हैं. उन्हें इंतजार है कोहरा छंटने का और अपनी मंजिल की ओर उड़ान भरने का. लेकिन मौसम का मिजाज कुछ और ही तेवर दिखा रहा है. मौसम पूर्वानुमानों की मानें तो कोहरे में ढील इतनी जल्दी मिलती नहीं दिखती.

दिल्ली के अलग-अलग हवाई अड्डों पर तो सुबह 6 बजे से यात्रियों में फंसने की मायूसी दिख रही है. तकनीकी तौर पर किसी भी टेक-ऑफ के लिए कम से कम 125 मीटर की दृश्यता जरूरी है, जबकि दिल्ली में दिखाई देना 50 मीटर तक सिमट कर रह गया है. लिहाजा उड़ानों में अनिश्चितता बने रहने की संभावना और ज्यादा है.

ट्रेनें भी ठप

भारतीय परिवहन की लाइफलाइन कही जाने वाली ट्रेनें भी कोहरे की मार से चरमरा रही हैं. दिल्ली में दाखिल होने वाली लगभग 56 ट्रेनें लेट से चल रही हैं और लगभग 20 गाड़ियों का समय बदला जा चुका है. उत्तर रेलवे की मानें तो अबतक 15 ट्रेनें रद्द की जा चुकी हैं. हालांकि इस मामले में विमानों के उड़ान कुछ खुशनसीब हैं क्योंकि अबतक किसी फ्लाइट के रद्द होने की खबर नहीं है.

कोहरा-ठंड का कॉकटेल

यूपी में कोहरे के साथ-साथ ठंड ने भी पूरा जोर लगाया है. पिछले 5 दिन से यूपी और बिहार के लोग कोहरे की मार झेल रहे हैं, साथ ही ठंड ने भी कहर बरपा रखा है. यूपी में हाल के दिनों में कोहरे से कई जानलेवा हादसे हुए जिसमें 15 लोगों की मौत व 40 से ज्यादा लोगों के जख्मी होने की खबर है. लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे पर घने कोहरे की वजह से इटावा में ग्राम अगूपुर व गुबरिया के बीच तीन बस, एक डीसीएम व दो कारें टकरा गईं. हादसों में दो दर्जन लोग घायल हो गए. वहीं कानपुर, चित्रकूट, महोबा, वाराणसी और बलिया में ठंड लगने से 11 लोगों की मौत हो गई. बिहार से भी छिटपुट सड़क हादसों की खबरें हैं.

पंजाब और हरियाणा भी गिरफ्त में

वैसे मौसम वैज्ञानिकों ने संभावना जताई है कि क्षेत्र में अगले दो दिन मौसम शुष्क रहेगा. ठंड से कोई राहत नहीं मिलेगी. बता दें कि उत्तर भारत में ठंड अपना असर दिखा रही है. पंजाब और हरियाणा भी ठंड की गिरफ्त में हैं. रविवार को तो ज्यादातर स्थानों पर कोहरा छाया रहा. सोमवार को भी कमोबेस यही हाल है. हिसार सबसे ठंडा क्षेत्र रहा जहां तापमान शून्य से 3.9 डिग्री सेल्सियस रहा जो सामान्य से तीन डिग्री कम था.

नहीं मिलेगी निजात

मौसम पूर्वानुमान एजेंसी स्काईमेट के मुताबिक इस पूरे हफ्ते कोहरा छाया रहेगा. इस समय पश्चिमी हिमालय क्षेत्र में पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय है. इसकी वजह से यूपी और हरियाणा में हवा का दबाव कम है. हवा की तेजी भी काफी कम है. तापमान भी लगातार कम हो रहा है. हवा में नमी का स्तर भी 36 से 97 फीसद तक चल रहा है.

दिल्ली में दोहरी मार

इधर दिल्ली में पश्चिमी विक्षोभ की वजह से पिछले दो दिनों से प्रदूषण काफी अधिक चल रहा है. इसकी वजह से कई लोग नए साल पर भी घरों में ही दुबके रहे. हालांकि ये ऐसे लोग हैं जिन्हें स्मॉग और प्रदूषण के चलते सेहत से जुड़ी परेशानियां होती हैं.

सोमवार के लिए सफर इंडिया ने एयर इंडेक्स के रहने की आशंका जताई है. पीएम 10 का स्तर 445 व पीएम 2.5 का स्तर 221 एमजीसीएम रह सकता है. एयर क्वालिटी इंडेक्स के मुताबिक, दिल्ली के शादीपुर, सिरीफोर्ट, आईटीओ, द्वारका में हालात ज्यादा खराब है. हालांकि, मंगलवार को प्रदूषण में मामूली कमी आने की संभावना है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi