S M L

बिहार की भयावह बाढ़ में 56 की मौत, 70 लाख से ज्यादा प्रभावित

फ्लड कंट्रोल रूम के मुताबिक, बिहार की कई प्रमुख नदियां अब भी खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं

Updated On: Aug 16, 2017 04:12 PM IST

IANS

0
बिहार की भयावह बाढ़ में 56 की मौत, 70 लाख से ज्यादा प्रभावित

बिहार में बाढ़ की स्थिति गंभीर बनी हुई है. राज्य सरकार बचाव और राहत कार्य में लगी है लेकिन कई क्षेत्रों में अब तक राहत नहीं पहुंचने की शिकायत मिल रही है.

राज्य के 13 जिलों के 98 प्रखंडों के करीब 70 लाख की आबादी बाढ़ की चपेट में है. डिजास्टर कंट्रोल रूम के मुताबिक राज्य के पूर्णिया, किशनगंज, अररिया, कटिहार, मधेपुरा, सुपौल, पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, दरभंगा, मधुबनी, सीतामढ़ी, शिवहर और मुजफ्फरपुर जिले के 1,070 ग्राम पंचायत बाढ़ से प्रभावित हैं.

पटना स्थित फ्लड कंट्रोल रूम के मुताबिक, बिहार की कई प्रमुख नदियां अब भी खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं. हालांकि राहत वाली बात यह है कि कोसी और गंडक के जलस्तर में कमी देखी जा रही है.

नीतीश और सुशील मोदी करेंगे हवाई सर्वेक्षण

कंट्रोल रूम में नियुक्त असिस्टेंट इंजीनियर शेषनाथ सिंह ने बुधवार को बताया कि सुबह आठ बजे वीरपुर बैराज में कोसी नदी का जलस्तर 1.66 लाख क्यूसेक दर्ज किया गया था, जो 10 बजे घटकर 1.64 लाख क्यूसेक हो गया. वाल्मीकिनगर बैराज में गंडक का जलस्तर सुबह 10 बजे 1.66 लाख क्यूसेक दर्ज किया गया. उन्होंने बताया कि दोनों नदियों के जलस्तर में कमी की संभावना है.

इधर, बागमती नदी डूबाधार, चंदौली, सोनाखान, ढेंग और बेनीबाद में, जबकि कमला बलान नदी झंझारपुर और जानकीबियर क्षेत्र में खतरे के निशान को पार कर गई है. अधवारा समूह की नदियां भी कई स्थानों पर खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं. इसके अलावा महानंदा ढेंगराघाट और झाबा में लाल निशान के ऊपर बह रही है.

बुधवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एक बार फिर बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करेंगे. उनके साथ उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी भी होंगे. बाढ़ के कारण कई प्रखंडों का सड़क सपंर्क जिला मुख्यालयों से कट गया है. सड़कों पर बाढ़ का पानी बह रहा है.

बाढ़ प्रभावितों के लिए चलाए जा रहे हैं राहत शिविर

डिजास्टर मैनेजमेंट विभाग के मुताबिक राज्यभर के बाढ़ प्रभावित इलाकों में 343 राहत शिविर चलाए जा रहे हैं जिनमें 93 हजार से ज्यादा बाढ़ पीड़ित शरण लिए हुए हैं और करीब ढाई लाख लोगों को बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों से निकालकर सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है. बाढ़ की चपेट में आने से अब तक 56 लोगों की मौत हो चुकी है.

विभाग के एक अधिकारी ने दावा किया कि बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में राहत एवं बचाव कार्य युद्धस्तर पर चलाए जा रहे हैं. उन्होंने हालांकि कहा कि बाढ़ का पानी नए इलाकों में भी फैल रहा है. उन्होंने बताया कि बाढ़ प्रभावित इलाकों में लोगों की मदद के लिए एनडीआरएफ, एसडीआरएफ और सेना के जवानों को लगाया गया है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi