S M L

पूर्व स्टाफ ने कहा- कैम्ब्रिज एनालिटिका की मदद ले रही थी कांग्रेस!

कैम्ब्रिज एनालिटिका (सीए) के पूर्व कर्मचारी क्रिस्टोफर वायली ने यह खुलासा किया है कि सीए भारत में बड़े पैमाने पर काम कर रहा था और भारत में इसका एक दफ्तर भी है

FP Staff Updated On: Mar 27, 2018 10:24 PM IST

0
पूर्व स्टाफ ने कहा- कैम्ब्रिज एनालिटिका की मदद ले रही थी कांग्रेस!

कैम्ब्रिज एनालिटिका (सीए) के पूर्व कर्मचारी क्रिस्टोफर वायली ने यह खुलासा किया है कि सीए भारत में बड़े पैमाने पर काम कर रहा था और भारत में इसका एक दफ्तर भी है. इंडिया टुडे में छपी खबर के मुताबिक ब्रिटेन के कानूनी अधिकारियों के सामने वायली ने यह खुलासा किया. वायली ने सीए की तुलना आधुनिक साम्राज्यवादी से की है, जिसे इस बात की फिक्र नहीं है कि क्या कानूनी है और क्या गैर-कानूनी, उसे सिर्फ अपना काम होने से मतलब है.

वायली ने शुरुआती पूछताछ के बाद और भी जानकारी दी. उसके अनुसार भारत में सीए की एक क्लाइंट संभवतः कांग्रेस भी है. उसने कहा कि 'मुझे लगता है कि सीए का भारत में क्लाइंट कांग्रेस है लेकिन मैं जानता हूं कि वो हर तरह के प्रोजेक्ट्स पर काम करते थे. मुझे कोई नेशनल प्रोजेक्ट के बारे में याद नहीं लेकिन मैं उनके कई क्षेत्रीय प्रोजेक्ट्स के बारे में जानता हूं. भारत बहुत बड़ा है और इसके कई राज्य ब्रिटेन से भी बड़े हैं. सीए के पास वहां (भारत में) ऑफिस था और उसके स्टॉफ भी थे.' वायली ने यह भी दावा किया कि उसके पास भारत में सीए के कामकाज के संबंध में सबूत के तौर पर दस्तावेज भी हैं.

फेक न्यूज को बढ़ावा दे रहा था सीए

वायली ने यह भी कबूल किया है कि कैम्ब्रिज एनालिटिका फेक न्यूज और गलत सूचनाओं की संस्कृति को बढ़ावा दे रहा था. सीए के ऊपर 5 करोड़ लोगों के फेसबुक प्रोफाइल की जानकारियों का इस्तेमाल करके अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के पक्ष में राष्ट्रपति चुनावों के समय माहौल तैयार करने का आरोप है. सीए ने यह डेटा एलेक्जेंडर कोगन से लिया था जिसने अकादमिक रिसर्च करने के नाम पर फेसबुक से लोगों का डेटा लिया था. यह आरोप है कि यूजर्स के बिना अनुमति के एनालिटिका ने उनके डेटा का इस्तेमाल किया और ट्रंप को चुनाव जीतने में मदद की.

वायली ने यह भी कहा कि फेसबुक के लिहाज से भारत बहुत बड़ा बाजार है. वायली द्वारा किए गए खुलासों की और जानकारी आनी बाकी है. इसके बाद ही ठीक से पता चल पाएगा कि सीए भारत में किन लोगों के लिए काम कर रही थी. एनालिटिका का नाम फेसबुक डेटा लीक में आने के बाद बीजेपी और कांग्रेस एक-दूसरे पर इस कंपनी या इसकी सहयोगी कंपनी से संबंध होने के आरोप लगाए हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
'हमारे देश की सबसे खूबसूरत चीज 'सेक्युलरिज़म' है लेकिन कुछ तो अजीब हो रहा है'- Taapsee Pannu

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi