In association with
S M L

दिल्ली में प्रदूषण: स्कूल हो सकते हैं बंद, घर से निकलना खतरनाक

आईएमए ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को पत्र लिख कर कहा है कि भारी प्रदूषण के कारण दिल्ली मैराथन रद्द कर दिया जाना चाहिए

FP Staff Updated On: Nov 07, 2017 02:41 PM IST

0
दिल्ली में प्रदूषण: स्कूल हो सकते हैं बंद, घर से निकलना खतरनाक

दिल्ली में प्रदूषण का स्तर सभी हदों को पार करता जा रहा है. मंगलवार को दिल्ली में हर तरफ प्रदूषण भरे धुंध (स्मॉग) का साया देखा जा रहा है. ‘एयर क्वालिटी इंडेक्स' के अंतर्गत यह 'बेहद ख़राब' (वेरी पूअर) के स्तर से गिरकर अब 'गंभीर' (सीवियर) के स्तर पर पहुंच गया है. नमी से लैस प्रदूषकों से पैदा हुई धुंध की चादर ने पूरे शहर को अपनी चपेट में ले लिया है.

मामले की गंभीरता को देखते हुए एनजीटी ने कहा है कि दिल्ली में हालात आपातकालीन स्तर तक पहुंच चुके हैं. ट्रिब्यूनल ने यूपी, हरियाणा, पंजाब और दिल्ली की सरकारों को जरूरी कदम उठाने को कहा है. एनजीटी ने यह भी कहा है कि दिल्ली सरकार, दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण कमिटी, एमसीडी और पुलिस यह सुनिश्चित करे कि बाजारों में प्लास्टिक बैग का इस्तेमाल न किया जाए. इस बीच इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ने कहा है कि दिल्ली में जन स्वास्थ्य आपातकालीन हालात में है. स्कूल बंद कर दिए जाने चाहिए और लोगों को कम से कम बाहर निकलना चाहिए.

इसके अलावा आईएमए ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को पत्र लिख कर कहा है कि भारी प्रदूषण के कारण दिल्ली मैराथन रद्द कर दिया जाना चाहिए. इससे पहले एयरटेल ने भी प्रदूषण के कारण मैराथन का स्पोंसर न बने रहने का खयाल जाहिर किया था. यह मैराथन 19 नवंबर को आयोजित किया जाएगा.

दिल्ली बनी गैस चेंबर

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने भी इस मसले पर अपने विचार जाहिर किए हैं. उन्होंने कहा कि उन्होंने शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया को कहा है कि दिल्ली में स्कूल बंद किए जाएं. उन्होंने यह भी कहा कि दिल्ली एक ‘गैस चैम्बर’ बन गई है.

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) ने कहा कि हवा में नमी का बढ़ा हुआ स्तर स्थानीय स्रोतों से होने वाले उत्सर्जन से मिल गया है और हवा नहीं बहने के कारण इसने शहर को अपनी चपेट में ले लिया है. जानकारी के मुताबिक पीएम 2.5 का स्तर कई इलाकों में 400 से भी ज्यादा था जबकि राष्ट्रीय मानकों के मुताबिक इसे 60 से ज्यादा नहीं होना चाहिए. अंतरराष्ट्रीय मानकों के हिसाब से तो यह 25 से ज्यादा नहीं होना चाहिए.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
गणतंंत्र दिवस पर बेटियां दिखाएंगी कमाल!

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi