S M L

OROP की मांग कर रहे पूर्व सैनिकों को जंतर-मंतर से हटाया गया

एनजीटी ने जंतर-मंतर के आसपास सभी तरह के प्रदर्शन और धरने आयोजित करने पर यह कहकर प्रतिबंध लगा दिया था कि ऐसी गतिविधियां पर्यावरणीय नियमों का उल्लंघन करती हैं

Updated On: Oct 30, 2017 08:12 PM IST

Bhasha

0
OROP की मांग कर रहे पूर्व सैनिकों को जंतर-मंतर से हटाया गया

राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) के दिल्ली के ऐतिहासिक जंतर-मंतर के पास धरना-प्रदर्शन पर रोक लगाने के आदेश के बाद सोमवार को जगह को पूरी तरह खाली करा लिया गया. सोमवार को पुलिस और स्थानीय निकाय अधिकारियों ने उन तंबुओं और अस्थायी ढांचों को हटा दिया जिन्हें पूर्व सैन्यकर्मियों ने ‘वन रैंक-वन पेंशन’ योजना लागू करने की मांग को लेकर प्रदर्शन के लिए यहां लगाया था.

पूर्व सैनिक यहां बीते दो साल से अधिक समय से प्रदर्शन कर रहे थे. पुलिस ने बताया कि 5 अक्टूबर को एनजीटी द्वारा दिए गए आदेश के बाद यह कार्रवाई की गई है.

पुलिस ने कहा कि प्रदर्शनकारियों को पूर्व में ही एनजीटी के आदेश के बारे में अवगत करा दिया गया था. उन्हें यहां से जाने या अदालत से स्थगन आदेश हासिल करने के लिए कहा था.

पुलिस और स्थानीय निकाय अधिकारियों की इस कार्रवाई पर पूर्व सैनिकों ने इसे ‘लोकतंत्र में हमारी आवाज को दबाने का एक प्रयास’ करार दिया.

एनजीटी के रोक लगाने के आदेश के बाद की गई कार्रवाई

घटनास्थल पर प्रदर्शनकारियों में शामिल मेजर जनरल (रिटायर्ड) सतबीर सिंह ने कहा कि पुलिस और एमसीडी के अधिकारी सोमवार सुबह एक जेसीबी मशीन के साथ आए और उनके तंबुओं और अन्य अस्थायी निर्माणों को तोड़ दिया.

उन्होंने बताया कि ‘वो हमारे उपकरण और बिस्तर जैसे अन्य सामान भी सुबह 8.45 मिनट पर ले कर चले गए. हम ओआरओपी योजना लागू करने की मांग को लेकर शांतिपूर्वक प्रदर्शन कर रहे हैं’'. सतबीर सिंह ने बताया, ‘यह लोकतंत्र में हमारी आवाज दबाने का एक प्रयास है. अगर किसी अधिकरण से कोई आदेश आता भी है तो चीजों को करने का एक तरीका होता है. उन्होंने जो किया है वह पूरी तरह से गलत और अन्यायपूर्ण है.’

वहीं, पुलिस ने पूर्व सैनिकों को जंतर-मंतर से हटाने के दौरान किसी तरह के बल प्रयोग से इनकार किया है.

एनजीटी ने 5 अक्टूबर को जंतर-मंतर के आसपास सभी तरह के प्रदर्शन और धरने आयोजित करने पर यह कहकर प्रतिबंध लगा दिया था कि ऐसी गतिविधियां पर्यावरणीय नियमों का उल्लंघन करती हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi