S M L

'सर्जिकल स्‍ट्राइक स्वीकार कर लेता पाकिस्तान तो उसके लिए होती शर्म की बात'

सेना के नॉर्थन कमांड रहे डीएस हुडा ने सीएनएन-न्यूज़18 को दिए इंटरव्यू में बताया कि सर्जिकल स्ट्राइक को इतना गोपनीय रखा गया था कि इसकी जानकारी सिर्फ 40 लोगों को थी. यही ही नहीं उनके हेडक्वार्टर में भी लोग सर्जिकल स्ट्राइक की खबर सुनकर चौंक गए थे

Updated On: Sep 29, 2018 10:27 AM IST

FP Staff

0
'सर्जिकल स्‍ट्राइक स्वीकार कर लेता पाकिस्तान तो उसके लिए होती शर्म की बात'

जम्मू-कश्मीर के उरी में साल 2016 के आतंकी हमले के बाद की गई सर्जिकल स्ट्राइक को दो साल पूरे हो गए हैं. भारतीय सेना की इस कार्रवाई को उस वक्त लीड कर रहे लेफ्टिनेंट जनरल डीएस हुड्डा से सीएनएन-न्यूज़18 ने बात की है. हुड्डा उस वक्त सेना के नॉर्दन कमांड के हेड भी थे. उन्होंने बताया कि सर्जिकल स्ट्राइक को इतना गोपनीय रखा गया था कि इसकी जानकारी सिर्फ 40 लोगों को थी. इतना ही नहीं उनके हेडक्वार्टर में भी लोग सर्जिकल स्ट्राइक की खबर सुनकर चौंक गए थे.

सीएनएन-न्यूज़18 की पत्रकार श्रेया ढोंडियाल से बात करते हुए डीएस हुड्डा ने कहा कि पाकिस्तान ने इस ऑपरेशन को सिरे से खारिज कर दिया क्योंकि 'इसे स्वीकार करना उनके लिए बड़े शर्म की बात होती.'

फिलहाल सेना से रिटायर हो चुके डीएस हुड्डा ने 2 साल पहले हुए सर्जिकल के स्ट्राइक के बारे में बड़े खुलासे किए हैं. पेश है उनसे लिए गए इंटरव्यू के कुछ अंश:-

सवाल: सर्जिकल स्ट्राइक एक सावधानीपूर्वक योजनाबद्ध सैन्य अभियान था, लेकिन कुछ पहलू हैं जिसे अब भी लोग नहीं जानते. पहली बात यह कितना टॉप सिक्रेट था? लूप में कितने लोग थे?

हुड्डा: बहुत कम. प्रधानमंत्री कार्यालय. राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार, रक्षा मंत्री. सेना में प्रमुख और उप-प्रमुख इसके साथ ही मिलिट्री ऑपरेशन डॉयरेक्टरे़ट और डीजीएमओ, जहां के तीन-चार अधिकारी जानते थे. मेरे हेडक्वार्टर में हमने इसे कुछ ही अफसरों तक सीमित रखा, जिसमें ऑपरेशन और इंटेलिजेंस के संभवतः सात-आठ अधिकारी इस बारे में जानते थे. कोई भी पूरा प्लान नहीं जानता था. सर्जिकल स्ट्राइक की अगली सुबह जब प्रेस वार्ता हुई तो मेरे हेडक्वार्टर के 99 फीसदी लोगों को पचा चला कि ऐसा कुछ हुआ था. हमने इसे बहुत सिक्रेट रखा था.

सवाल: तो पूरे देश में चालीस से ज्यादा लोग इस बारे में नहीं जानते थे कि क्या होने वाला था?

हुड्डा: हां, आप सही कह रही हैं.

सवाल: 19 पैरा कमांडो के बारे में क्या जो नियंत्रण रेखा के पार गए थे? उन्हें कब और कितना बताया गया?

हुड्डा: असल में, 100 से अधिक थे जो कई स्थानों पर शामिल थे. लगभग, 100 लोग थे. 5 लक्ष्य थे और प्रत्येक टीम के पास 20-25 लोग थे. एक बार पूरी योजना मेरे मुख्यालय में तैयार की गई, केवल तभी सैनिकों को बताया गया. उन्हें केवल उनके विशिष्ट लक्ष्यों को बताया गया था.

सवाल: सेना में कहा जाता है कि, 'रेकी कभी बर्बाद नहीं होती है.' क्या कोई रेकी की गई थी?

हुड्डा: मार्गों के बारे में सुनिश्चित जानकारी के लिए रेकी की गई थी. हमें वास्तव में ऑपरेशन से एक दिन पहले एक गुप्त निगरानी को शामिल करना पड़ा. उन्होंने पूरे दिन लक्ष्यों को इकट्ठा करने में बिताया.

सवाल: क्या वह 24 घंटे तक लगातार छिपे हुए थे? क्या उनकी जगह नहीं बदली?

हुड्डा: नहीं, वह 5 जगह पर नहीं थे. वे सिर्फ एक ही जगह थे. डायरेक्ट सर्विलांस तब तक संभव नहीं है जब तक कि वह एक जगह न हो. सामने आई कुछ फुटेज में आप आतंकियों को देख सकती हैं. यह तस्वीरें सर्विलांस टीम की ओर से दिन में ली गई थीं.

सवाल: आपने बताया कि एक टार्गेट एरिया में कुछ चिंता थी. वह क्या था?

हुड्डा: हमें कुछ जानकारी मिल रही थी कि अधिक आतंकवादी आए हैं, शायद क्षेत्र को फिर से मजबूत किया जा रहा था. हमें यह जानकारी हमारे स्रोतों के माध्यम से मिली. हमने सुनिश्चित किया कि मुख्य टीम के अंदर आने से पहले, टार्गेट की पूरी जानकारी रहे. टीम को शामिल करना थोड़ा सा जोखिम भरा था लेकिन यह जोखिम काम आया.

सवाल: टार्गेट की पहचान कैसे की गई थी? हमें बताया गया था कि ये आतंकवादी लॉन्चपैड थे. क्या वे सिर्फ लॉन्चपैड थे या आसपास पाकिस्तानी सेना की पोस्ट्स थी?

हुड्डा: हमें पाकिस्तानी लॉन्चपैड की जानकारी थी. आम तौर पर, आतंकवादी आते हैं और वहां उस क्षेत्र की योजना बनाने में समय व्यतीत करते हैं जहां वे घुसपैठ करते हैं. हमें यह आइडिया था कि ये लॉन्चपैड कहां हैं. ज्यादातर मामलों में, ये लॉन्चपैड पाक सेना के पोस्ट्स के पास थे. यही वह जगह है जहां से प्रशासनिक समर्थन मिलता है. इन आतंकवादी लॉन्चपैड की बड़ी संख्या एलओसी पर है. जब हमें नवीनतम जानकारी के आधार पर कई स्थानों पर हमला करना था, तो हमने टार्गेट्स को चुना.

सवाल: लेकिन, उस इलाके के आसपास पाकिस्तानी पोस्ट थे. यहां जवानों को काफी चौकन्ना रहना पड़ता है, क्योंकि उधर से वो टारगेट कर सकते हैं?

हुड्डा: हां... लॉन्चपैड में हमें संबंधित इलाके की पाकिस्तानी पोस्ट की पहचान करनी थी. क्योंकि, हमारा पहला रिएक्शन इन दोनों को लेकर ही था. हमें ये सुनिश्चित करना था कि पाकिस्तानी पोस्ट निष्क्रिय रहे और हमें उन्हें टारगेट कर सके.

सवाल: अब दो साल हो गए हैं. फिर भी, उस रात मारे गए आतंकवादियों की संख्या निश्चित नहीं है. आंकड़े 20 से 120 तक हैं.

हुड्डा: किसी ने भी शवों को गिनने की प्रतीक्षा नहीं की. उन्हें जल्द से जल्द पाकिस्तानी लॉन्चपैड्स को खत्म कर वहां जो भी मौजूद था उसे मार कर और तेजी से अपने इलाके में आना था. संभवतः यह संख्या 60 से 70 की थी. इसमें से 10, 15, 20 घटा या जोड़ सकते हैं. अगले दिन पाकिस्तानी सेना ने ऐसा कुछ भी होने से मना कर दिया. कई बार आप खुले स्रोतों की जानकारियों पर निर्भर रहते हैं जो नहीं आया लेकिन हमारा आंकड़ा साठ से सत्तर का था.

सवाल: क्या आप पाकिस्तान से इतनी जल्दी आए इनकार पर आश्चर्यचकित थे?

हुड्डा: हम आश्चर्यचकित थे. यह एक बड़े पैमाने पर ऑपरेशन था. आपके चैनल ने एक पुलिसकर्मी से बात की और उसने पुष्टि की. मुझे यकीन है कि पाक वर्दी के भी कुछ लोग घायल हुए थे क्योंकि वे पोस्ट्स के नजदीक थे. किसी की ओर से अपने लोगों की शहादत खारिज करना हमारे लिए आश्चर्यजनक था. यह एक तरह से सकारात्मक था क्योंकि इसने हमें संकेत दिया कि हम पाक सेना से कोई प्रतिशोध नहीं देख पाएंगे. भारतीय सेना द्वारा ऐसी चीज स्वीकार करना उनके लिए झटका था. पाक सेना के लिए यह एक बड़ी शर्म की बात होगी. सैनिकों ने पाकिस्तानी रेखा पार कर ली, शिविरों को नुकसान पहुंचाया और वापस आ गए. यह दुनिया की ज्यादा सुरक्षित सीमाओं में से एक है.

सवाल: मुझे आश्चर्य है कि वे तैयार नहीं थे क्योंकि 10 दिन पहले उरी हुआ था. क्या पाकिस्तान इतना आश्वस्त था कि भारतीय सेना जवाबी कार्रवाई नहीं करेगी?

हुड्डा: यह एक और चीज है जिसने हमें आश्चर्यचकित किया. मुझे लगता है कि उन्हें बिल्कुल इसकी उम्मीद नहीं की थी. आखिरकार वे सभी हत्यारे थे, वे इसे स्वीकार नहीं करना चाहते थे.

सवाल: तो कोई क्रॉसफायरिंग नहीं हुई? उन्होंने वापस फायरिंग नहीं की?

हुड्डा: हम उनकी सतर्कता की जांच के लिए उनके रेडियो कनवर्सेशन की निगरानी कर रहे थे. एलओसी पर चेतावनी होती जो हमारे भविष्य के कार्यों को जटिल बना देती लेकिन हमने उनकी तरफ से इस प्रकार की प्रतिक्रिया भी नहीं देखी. वे पूरी तरह से सदमे में थे.

सवाल: उन्होंने किस समय फायरिंग शुरू की? पूरा ऑपरेशन एक घंटे तक चला?

हुड्डा: यह उससे कहीं अधिक था. जैसे ही यह अंधेरा हुआ, सैनिकों ने आगे बढ़ना शुरू कर दिया. तो शाम को लगभग 8-8:30 हमने पहले टार्गेट पर निशाना बनाया. अंतिम टार्गेट सुबह 6:30 बजे खत्म किया गया. तो लोग 10-11 घंटों के लिए उनके क्षेत्र में थे.

सवाल: क्या दूसरी तरफ से सफेद झंडा उठाया गया था?

हुड्डा: हमने किसी एक पोस्टस पर ऐसी कोई चीज देखी थी.

सवाल: कृपया इसका अर्थ बताएं.

हुड्डा: कभी-कभी जब बहुत अधिक दबाव होता है, तो आप सफेद झंडा उठाना चाहते हैं. आप दूसरे से गुहार लगा रहे होते हैं कि अब रहने दें.

सवाल: ऑपरेशन के बाद, ड्रोन से लाइव फीड आ रही थी, और कई सैनिकों के पास कैमरों के साथ हेल्मेट थे। कितने लोग इसकी निगरानी कर रहे थे? आप कहाँ थे?

हुड्डा: हम भूमिगत कमांड पोस्ट में थे. हम वहां 7-8 घंटे थे. हम यूएवी से कई स्ट्रीम देख रहे थे. आप विवरणों को बिल्कुल सही नहीं कर सकते हैं, लेकिन अचानक गोलीबारी होने पर आपको आग लगने का पता लग जाएगा. हम जानते थे कि योजना के मुताबिक सब कुछ काफी हद तक चल रहा था.

सवाल: सबसे कठिन हिस्सा जगह से हटना था? सर्जिकल स्ट्राइक्स पर अब डॉक्यूमेंट्री हैं, कम से कम दो किताबें लिखी गई हैं. सैनिक कह रहे थे कि सबसे बड़ी चिंता जगह से ना हट पाना था. सीमा के किनारे वापस लौट रही थी.

हुड्डा: हां, एक बार पहला हमला हो जाने के बाद, क्षेत्र में हर किसी को सतर्क कर दिया जाता है. उस बिंदु पर वापस आना सबसे कठिन चुनौती थी. यह सिर्फ वापस आना नहीं था. हम जानते थे कि हमारे जवान घायल हो सकते हैं, हमें कुछ घायल लड़कों को साथ ले जाना पड़ सकता है, जिसने जगह से हटने की योजना को और अधिक चुनौतीपूर्ण बना दिया.

सवाल: क्या यह सिर्फ 10 दिनों की योजना थी या क्या इसकी उम्मीद थी?

हुड्डा: योजना म्यांमार ऑपरेशन के बाद शुरू हुई. हमने अनुमान लगाया कि उत्तरी कमांड को आतंकी लॉन्चपैड हटाने के लिए एक समान ऑपरेशन करने के लिए कहा जा सकता है. इंटेल इकट्ठा करने, सैटेलाइट फोटोग्राफ, टेंटेटिव ब्रॉड प्लान बनाने, और सीमा पार मानव इंटेल स्रोतों सहित बाकी सब कुछ एक साथ लाया गया था. साल 2015-2016 की सर्दियों में, हमने दो विशेष बटालियनों को बुलाया. हमने उन पर ध्यान केंद्रित किया और सीमा पार ऑपरेशन के लिए उन्हें प्रशिक्षित किया. व्यापक रूप से, योजना अपनी जगह पर थी. हम कहां जाएंगे, इस पर निर्भर करते हुए हमारे पास 13-14 कन्टिन्जन्सीज़ थीं. एक बार उरी होने के बाद, हमने उस 10 दिनों में टार्गेट्स की अंतिम सूची को ठीक-ठीक किया. हमने विभिन्न टीमों में कर्मियों की तैनाती को भी अंतिम रूप दिया और उनके द्वारा दिए गए आदेश हथियार दिए.

सवाल: क्या आपको कोई नींद आ गई?

हुड्डा: 28 और 29 तारीख को मैं सोया नहीं था क्योंकि मैं ऑपरेशन रूम में बैठा था. जैसे ही अंधेरा हुआ हम अंदर गए. मैं सूर्योदय पर बाहर आया.

सवाल: प्रधानमंत्री को कब सूचित किया गया और उनकी प्रतिक्रिया क्या थी?

हुड्डा: मैंने सुबह-सुबह 7.30-8.00 बजे स्टाफ ऑफ चीफ को सूचित किया. हमने फैसला किया था कि आखिरी व्यक्ति वापस आने के बाद सफलता का संकेत दिया जाएगा. आधा घंटे बाद रक्षा मंत्रालय ने मुझे बुलाया और कहा, 'अच्छा किया'. उसी समय, उन्होंने प्रधानमंत्री को बताया होगा.

सवाल: क्या यह पहली बार था कि इस तरह के बड़े पैमाने पर ऑपरेशन आयोजित किया गया था?

हुड्डा: जवाब यह है कि यह पहला नहीं था. पहले भी सीमा पार ऑपरेशन होते रहे हैं. यह अलग था क्योंकि दायरा बड़ा था.जम्मू से कश्मीर क्षेत्र तक कई लक्ष्यों को ध्यान में रखा गया. जिस गहराई में उन्होंने प्रवेश किया और कई आतंकवादी लॉन्चपैड को खत्म किया, वैसा अतीत में नहीं हुआ था. दूसरा बड़ा हिस्सा था, सरकार ने स्वीकार किया कि हम इसे करेंगे. यह कुछ दबाव भी डालता है. यह सफल हुआ तो आप इसे स्वीकार करेंगे या आप इनकार कर सकते हैं. मुझे पता था कि समाचार अगले दिन घोषित किया जाएगा, इसलिए मुझे यह सुनिश्चित करना था कि सब कुछ सफल हो.

सवाल: क्या हमलों ने अपने रणनीतिक लक्ष्य को हासिल किया? उरी का बदला लिया गया, लेकिन आतंकवाद अभी भी चल रहा है?

हुड्डा: जब हम योजना बना रहे थे, यह हमारे दिमाग में कहीं भी नहीं था कि ये सर्जिकल स्ट्राइक्स पाकिस्तान से आतंक को रोक देंगे. वे वही करेंगे जो वे कर रहे थे. हमें पाकिस्तान और अपने स्वयं के क्षेत्र को एक मजबूत संदेश भेजने की जरूरत थी. मेरे सैनिक मुझसे पूछ रहे थे, 'उरी में खोए गए जवानों के बारे में हम क्या करने जा रहे हैं?' यह बदला लेने, प्रतिशोध के बारे में नहीं था. हमारे लिए सवाल उठाए गए थे, 'यदि सेना अपने किलों की रक्षा नहीं कर सकती है, तो हम क्या करने जा रहे हैं?' मुझे लगता है कि संदेश को वितरित करने की आवश्यकता है कि हम बस वापस बैठकर अपने क्षेत्र की रक्षा नहीं करेंगे. लेकिन संदेश भेजा जाएगा. लोग दूसरे सर्जिकल स्ट्राइक्स के बारे में पूछते हैं, लेकिन यह प्रक्रिया या मानक नहीं है. पाकिस्तान के साथ, आपको निरंतर दृष्टिकोण की आवश्यकता है. पाक सेना एक पेशेवर सेना है. वह बदलेगी नहीं.

सवाल: एक सैनिक के रूप में जिसने अपने साथियों को खोया है, क्या आपको लगता है कि पाकिस्तान को शांति प्रक्रिया में लाने के लिए बातचीत एक तरीका है? क्या आपको लगता है कि भारत-पाक वार्ता शुरू करने के लिए व्यवहार्य है? क्या दोनों देशों के बीच शांति लाने के तरीके पर बातचीत कर रहे हैं?

हुड्डा: कूटनीति ऐसी चीज है जिसे हमें बलपूर्वक उपयोग करने से पहले देखना चाहिए. विकल्पों पर विचार किया जाना चाहिए. आतंक को रोकना चाहिए और बातचीत के लिए मार्ग प्रशस्त करने के लिए हिंसा कम होनी चाहिए. पाकिस्तान का मानना है कि आतंकवादी हमलों को जारी रखते हुए, वे वार्तालाप के लिए भारत पर दबाव डाल सकते हैं. इन दो व्याप्त विपरीत दृष्टिकोणों के बीच बैठक का आधार होना चाहिए.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi