विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

महिला सशक्तीकरण से पैदा होंगे व्यापार और नौकरी के अवसर: फेसबुक

फेसबुक के दो पहल #shemeansbusiness और #sheleadstech युवा महिला उद्यमियों के लिए बहुत सारे मौके उपलब्ध कराएंगे

IANS Updated On: Mar 01, 2017 09:53 PM IST

0
महिला सशक्तीकरण से पैदा होंगे व्यापार और नौकरी के अवसर: फेसबुक

फेसबुक के एक अध्ययन में बुधवार को यह जानकारी मिली कि भारत में हर पांच में से चार महिला उद्यमी बनना चाहती है. भारत में 2021 तक करीब 1.55 करोड़ नए कारोबार और 6.4 करोड़ नौकरियों पैदा करने की क्षमता है. लेकिन महिलाओं की कठिनाइयों को दूर नहीं कर पाने के कारण नौकरियों के अवसर तेजी से पैदा नहीं हो पा रहे हैं.

इस अध्ययन से पता चला है कि केवल 52 फीसदी महिलाएं ही आज किसी व्यापार को शुरू करने में सशक्त हैं.

फेसबुक इंडिया के निदेशक अंखी दास ने कहा, ‘अगर हम महिलाओं की उद्यमशीलता का पूरा इस्तेमाल करें और उन्हें अधिक से अधिक सहायता प्रदान करें तो इससे और अधिक नौकरियां पैदा होंगी, आर्थिक विकास होगा और विविधता से भरपूर छोटे व्यापारिक समुदायों का उदय होगा.’

इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के सचिव अरुणा सुंदरराजन ने कहा कि महिलाओं में जबरदस्त क्षमता है, लेकिन अकसर सही मंच की कमी के कारण वे अपनी क्षमता का इस्तेमाल नहीं कर पाती हैं. लेकिन फेसबुक उनके लिए बड़ा अवसर मुहैया कराने में जुटा है.

फेसबुक करेगी महिला उद्यमियों की मदद 

सुंदरराजन ने कहा, ‘हम महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए फेसबुक जैसे मंच के साथ साझेदारी से बहुत प्रेरित हैं. हम टेक्नोलॉजी के माध्यम से महिला की आजीविका की बेहतरी के लिए गूगल, सिस्को और इंटेल जैसी प्लेटफार्म के जुड़ने की कोशिश कर रहे हैं.’

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस जो 8 मार्च को मनाया जाता है. उससे पहले फेसबुक ने 'शी लीड्स टेक (वह प्रौद्योगिकी का नेतृत्व करतीं है) कार्यक्रम की शुरुआत की है.

इस कार्यक्रम में महिलाओं के द्वारा स्थापित या उनकी साझेदारी में स्थापित स्टार्टअप्स को एक साल के लिए उपकरण, संरक्षण और संसाधन मुहैया कराएगी, ताकि उन्हें बिजनेस को बढ़ाने में मदद मिल सके.

सुंदराजन ने जोर देकर कहा, ‘फेसबुक के दो शक्तिशाली पहल #shemeansbusiness और #sheleadstech कार्यक्रम युवा महिला उद्यमियों के लिए बहुत सारे मौके उपलब्ध कराएंगे. चाहे वो छोटे शहरों की हो (जहां इंटरनेट की सुविधा सीमित होती है) या फिर उपनगरीय क्षेत्र की हो जो वित्तीय संसाधनों की कमी से जूझ रही होतीं है. उन सबको इस कार्यक्रम के तहत अवसर मुहैया कराया जाएगा.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi