S M L

सुषमा ने विदेश मंत्रालय की उपलब्धियां गिनाईं, पाक को दिया दो टूक जवाब

स्वराज ने कहा, ब्रिटेन हमें जेलों पर लेक्चर न दे. ब्रिटेन पहले यह देखे कि इन्हीं जेलों में उसने गांधी और नेहरू को रखा था

FP Staff Updated On: May 28, 2018 05:21 PM IST

0
सुषमा ने विदेश मंत्रालय की उपलब्धियां गिनाईं, पाक को दिया दो टूक जवाब

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने सोमवार को नई दिल्ली में विदेश मंत्रालय की चार साल की उपलब्धियों का ब्योरा पेश. इस मौके पर उन्होंने अपने दो जूनियर मंत्रियों वीके सिंह और एमजे अकबर के साथ एक पुस्तक का भी विमोचन किया.

ब्रिटेन की इस बात पर कि भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या को भारतीय जेलों में नहीं रखा जाना चाहिए, सुषमा स्वराज ने ऐतराज जताते हुए कहा कि ब्रिटेन हमें जेलों के मामले में लेक्चर न दे. ब्रिटेन पहले यह देखे कि इन्हीं जेलों में उसने गांधी और नेहरू को रखा था.

इस मामले में स्वराज ने कहा, कहा जा रहा है कि पीएम मोदी ने ब्रिटिश पीएम थेरेसा मे से कहा कि ब्रिटिश कोर्ट भारतीय जेलों की दशा पर सवाल उठा रहा है, यह बात सही नहीं है. यही वे जेल हैं जहां ब्रिटेन ने गांधी और नेहरू को रखा था.

स्वराज ने अपने संबोधन में कहा, मैं यह सुनकर हैरत में थी कि अपने देश के नेता कई देश ऐसे हैं जहां का वे दौरा नहीं करते. जब हमारी सरकार बनी तो हमने तय किया कि संयुक्त राष्ट्र की लिस्ट में दर्ज 192 देशों का हम दौरा करेंगे और मंत्री स्तर की वार्ता करेंगे. हमने अबतक 186 देशों से वार्ता कर भी ली है.

विदेश मंत्री ने आगे कहा, दुनिया के कई देशों में 90 हजार भारतवंशियों को बचाया गया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कई देशों का दौरा कर वहां फंसे भारतीयों को कड़ी सजा से मुक्ति दिलाई. आज अलग-अलग देशों में रहने वाले भारतीय सुख-चैन की जिंदगी गुजार रहे हैं.

सुषमा स्वराज ने कहा, मुझे एक शख्स ने ट्वीट किया जिसमें लिखा था कि उसे मानसरोवर झील में स्नान करने की इजाजत नहीं मिली. ऐसी कोई बात नहीं है. मानसरोवर झील में हमेशा एक नीयत स्थान तय होता है जहां आप स्नान कर सकते हैं. ऐसा नहीं होता कि जहां चाहें वहां डुबकी लगाएं.

भारत-पाक संबंधों के बारे में विदेश मंत्री ने कहा, हमने ऐसा कभी नहीं कहा कि बात नहीं करेंगे लेकिन इसकी एक शर्त है. आतंक और बातचीत एक साथ नहीं चल सकते. यह चुनाव से पहले (25 जुलाई को पाकिस्तान में आम चुनाव है) हो या बाद में. जब सीमा पर जनाजे उठ रहे हों तो बातचीत की आवाज अच्छी नहीं लगती.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
DRONACHARYA: योगेश्वर दत्त से सीखिए फितले दांव

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi