S M L

मौसम के पल-पल बदलते मिजाज से और कितने दिन आप रहेंगे परेशान?

मौसम विभाग के अलर्ट के बाद दिल्ली-एनसीआर के कई स्कूलों को एक दिन के लिए बंद कर दिया गया.

Updated On: May 08, 2018 04:33 PM IST

Ravishankar Singh Ravishankar Singh

0
मौसम के पल-पल बदलते मिजाज से और कितने दिन आप रहेंगे परेशान?

इंडियन मीटियरोलॉजिकल डिपार्टमेंट (आईएमडी) मौसम के बदलते स्वभाव को लेकर लगातार अलर्ट जारी कर रहा है. आईएमडी के मुताबिक अगले 48 घंटों में दिल्ली में आंधी-तूफान के आने की संभावना है. दिल्ली-एनसीआर में सोमवार रात को आई धूल भरी आंधी के बाद भी खतरा अभी टला नहीं है. मौसम विभाग के मुताबिक उत्तराखंड में मूसलाधार बारिश की संभावना सबसे ज्यादा है. दिल्ली-एनसीआर सहित हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और जम्मू-कश्मीर सहित पूरे उत्तर भारत में भी खतरा बरकरार है.

मौसम विभाग ने सोमवार को भी तूफान की जानकारी दी थी, जो अब दिल्ली और एनसीआर के हिस्सों को छूने लगा है. 7 मई की रात को दिल्ली में बहुत जोर की आंधी चली और कई जगहों पर हल्की-फुल्की बारिश भी हुई. उत्तर और पूर्व भारत के बहुत से हिस्सों में यह तूफान बीते कुछ दिनों से भयंकर कहर बरपा रहा है.

हिमाचल प्रदेश में लगातार बर्फबारी हो रही है. शिमला में इस तूफान ने काफी कहर बरपाया है. ओलावृष्टि होने के कारण शिमला की सड़कें पूरी तरह से सफेद हो गई हैं. देश-विदेश से आए कई पर्यटक इस तूफान के कारण फंस गए हैं. हिमाचल प्रदेश सरकार ने कहा है कि रोहतांग, लाहौल सहित कई इलाकों में यात्रा करना जोखिम भरा कदम साबित होगा.

अगर बात करें दिल्ली-एनसीआर की तो मौसम विभाग की तरफ से विशेष सावधानी बरतने की हिदायत दी जा रही है. आपदा प्रबंधन विभाग को भी अलर्ट पर रखा गया है. आईएमडी के मुताबिक उत्तर भारत में आंधी-तूफान ने बीती रात रात को ही दस्तक दे दी है. सोमवार आधी रात से ही दिल्ली-एनसीआर का इलाका धूल की चादर से ढक गया.

मौसम विभाग के अलर्ट के बाद दिल्ली-एनसीआर के कई स्कूलों को एक दिन के लिए बंद कर दिया गया. कई इलाकों में देर रात आंधी आने के बाद से ही बिजली कटौती भी शुरू कर दी गई है. अभी तक इस तूफान से किसी की भी जान-माल का कोई नुकसान नहीं पहुंचा है.

दिल्ली-एनसीआर में आंधी-तूफान को देखते हुए दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (डीएमआरसी) ने भी कई दिशा-निर्देश जारी किए हैं. डीएमआरसी ने ट्रेनों की रफ्तार कम करने की बात कही है. मेट्रो की रफ्तार जो अमूमन 70 से 90 किलोमीटर प्रति घंटे की होती है, उसको एक निश्चित अवधि के दौरान 40 किलोमीटर प्रतिघंटे तक किया जा सकता है. साथ ही एलिवेटेड ट्रैक पर दौड़ने वाली मेट्रो की रफ्तार को और भी कम किया जाएगा.

मौसम विभाग ने अपनी चेतावनी में कहा है कि अलर्ट वाले इलाकों में आंधी और गरज के साथ बारिश हो सकती है. पिछले हफ्ते 2 मई को आई आंधी से यूपी और राजस्थान में करीब 140 लोगों की मौत हो गई थी. बेमौसम बारिश से किसानों की फसल का भी काफी नुकसान हुआ था. बीते कुछ दिनों से डस्ट स्टॉर्म यानी अंधड़ हर किसी को डराए हुए है. मौसम विभाग की जानकारियों के हिसाब से अगले 48 घंटे बहुत क्रिटिकल बताया है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi