S M L

जम्मू-कश्मीर में पहली बर्फबारी: अंधेरे में डूबी घाटी, मोमबत्ती में परीक्षा देने को मजबूर छात्र

घाटी के अधिकांश हिस्सों में बिजली की सप्लाई बंद हो चुकी है. यहां तक कि मुख्य सड़क मार्ग भी ब्लॉक हो चुके हैं

Updated On: Nov 04, 2018 05:04 PM IST

FP Staff

0
जम्मू-कश्मीर में पहली बर्फबारी: अंधेरे में डूबी घाटी, मोमबत्ती में परीक्षा देने को मजबूर छात्र
Loading...

जम्मू-कश्मीर में भारी बर्फबारी ने स्थानीय लोगों के जीवन को बुरी तरह प्रभावित कर दिया है. घाटी के अधिकांश हिस्सों में बिजली की सप्लाई बंद हो चुकी है. यहां तक कि मुख्य सड़क मार्ग भी ब्लॉक हो चुके हैं. बर्फबारी ने सेब उत्पादकों को भी बुरी तरह प्रभावित किया है. हजारों सेब के पेड़ मोटी बर्फ की चादर से ढक गए हैं.

कश्मीर के ज्यादातर घरों में बीते दो दिनों से बिजली नहीं है. छात्र अपनी परीक्षा मोमबत्ती की रोशनी में दे रहे हैं. कई हॉस्पिटलों में पावर सप्लाई बंद है. पूर्व मुख्यमंत्री उमर अबदुल्ला ने कहा है कि बर्फबारी शुरू हुए 24 घंटे से अधिक हो गए हैं, लेकिन हमलोग अब तक बिना बिजली के हैं.

इससे यह स्पष्ट है कि प्रशासन ने कोई तैयारी नहीं की थी. अब आमलोग उनके लापरवाही की कीमत चुका रहे हैं. अधिकारियों का कहना है कि वे बिजली की आपूर्ति बहाल करने की कोशिश कर रहे हैं. इस कोशिश में 7000 लोग लगे हैं. संभावना है कि शाम तक ज्यादातर जगहों पर बिजली आ जाए.

उमर अबदुल्ला ने रविवार को ट्वीट कर सेब बगानों को पहुंचे भारी नुकसान की बात कही थी. अबदुल्ला ने कहा इसका असर राज्य की अर्थव्यवस्था पर भी होगा. राज्यपाल को यह जिम्मेदारी लेनी चाहिए कि किसानों को होने वाले नुकसान की भरपाई वो करेगा.

भारी बर्फबारी के चलते कश्मीर घाटी का देश के बाकी हिस्सों से सड़क और वायुमार्ग संपर्क टूट गया है. मौसम विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि वर्ष 2009 के बाद यह पहला मौका है जब नवंबर महीने में श्रीनगर शहर में बर्फबारी हुई है. उन्होंने बताया, ‘यह बेहद दुर्लभ घटना है. पिछले दो दशकों में केवल चार दफा नवंबर के महीने में श्रीनगर में बर्फबारी हुई है. इसके पहले 2004, 2008 और 2009 में नवंबर के महीने में श्रीनगर में बर्फबारी हुई थी.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi