S M L

रेलवे संगठनों का अलग-अलग काम करना चिंता की बात : गोयल

मंत्री ने कहा कि अगर ठीक से इस्तेमाल किया जाए तो कृत्रिम बौद्धिकता रेलवे को ‘बदलने’ में मदद कर सकती है

Updated On: Mar 24, 2018 10:40 PM IST

Bhasha

0
रेलवे संगठनों का अलग-अलग काम करना चिंता की बात : गोयल

केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि रेल संगठन अब भी अलग- अलग काम कर रहे हैं जो ‘चिंता का विषय’ है जबकि अधिकारी इस प्रथा को खत्म करना चाहते हैं.

गोयल ने यहां कृत्रिम बौद्धिकता पर आयोजित एक सम्मेलन में रेलवे के विभिन्न संगठनों के अलग- अलग काम करने पर नाखुशी जताई.

मंत्री ने कहा कि अगर ठीक से इस्तेमाल किया जाए तो कृत्रिम बौद्धिकता रेलवे को ‘बदलने’ में मदद कर सकती है और इससे ‘काफी’ फायदा हो सकता है.

उन्होंने अधिकारियों से कहा कि कृत्रिम बौद्धिकता से ‘खतरा’ महसूस नहीं करें. उन्होंने कहा कि यह किसी को हटा नहीं सकता बल्कि कामकाज में सहयोग कर सकता है. गोयल ने कहा कि हम अलग- थलग काम करने में विश्वास करते हैं जो मेरी इच्छा के खिलाफ है.

मंत्री ने कहा कि यह स्थिति तब भी बनी हुई है जब कुछ महीने पहले यहां 250 अधिकारियों ने एक बैठक में प्रतिबद्धता जताई थी कि वे रेलवे संगठनों का एकीकरण करेंगे और इस अलगाव को खत्म करेंगे.

उन्होंने कहा, ‘मैं काफी निराश हूं कि हमारे बोर्ड अब भी अलग रहना चाहते हैं. यह गहरी चिंता का विषय है और मेरी तरह के व्यक्ति के लिए दुख की बात है कि हम रेलवे में अलगाव को खत्म नहीं कर पा रहे हैं.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi