live
S M L

प्लेन में यात्रियों को अंग्रेजी के साथ हिंदी के भी अखबार और मैगजीन दिए जाएं

डीजीसीए ने सभी एयरलाइंस को नई गाइडलाइन जारी की है जिसमें यात्रियों को अंग्रेजी के साथ हिंदी के न्यूजपेपर देने की बात कही गई है

Updated On: Jul 26, 2017 03:57 PM IST

FP Staff

0
प्लेन में यात्रियों को अंग्रेजी के साथ हिंदी के भी अखबार और मैगजीन दिए जाएं

हिंदी पाठकों के लिए अब हवाई यात्रा ज्यादा आरामदायक बनाने के लिए डीजीसीए ने नई गाइडलाइंस जारी की है. नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (डीजीसीए) द्वारा जारी की गई गाइडलाइंस में अंग्रेजी के साथ हिंदी के भी न्यूजपेपर और मैगजीन यात्रियों को देने की बात कही गई है.

मामले में डीजीसीए के ज्वाइंट डायरेक्टर ललित गुप्ता ने कहा कि विमानों में यात्रियों को हिंदी में पढ़ने की सामग्री उपलब्ध ना कराना सरकार की पॉलिसी के खिलाफ होगा. वहीं, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने डीजीसीए के इस फैसले का मजाक उड़ाते हुए लिखा, ‘डीजीसीए अब भारतीय विमानों में हिंदी प्रकाशन के अखबार और पत्रिकाएं यात्रियों को पढ़ने के लिए देना चाहता है.’

रिपोर्ट के अनुसार एयर इंडिया कैटरिंग पर करीब चार सौ करोड़ रुपए खर्च करता है. एयर इंडिया के इसी फैसले का विरोध किया गया था. एयर पैसेंजर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष डॉक्टर सुधाकर रेड्डी ने इस फैसले को पक्षपाती करार दिया था. उन्होंने कहा कि यह बिल्कुल भी स्वीकार नहीं किया जा सकता. एयरलाइन एक ही एयरक्राफ्ट में यात्रियों के बीच भेदभाव कर रही है. यह बंटवारा क्लास पर आधारित है. हम इस मुद्दे को प्राधिकरण के सामने उठाएंगे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi