S M L

नेताओं-संतों ने लगाई हुंकार, राम मंदिर इसी साल बनेगा

साध्वी प्राची ने कहा कि- राम जी का मंदिर बनेगा धूमधाम से. 6 दिसंबर को ही हमें शिलान्यास करना है. अयोध्या के अंदर हिंदुस्तान के हिंदुओं को बुलाओ, राम मंदिर की घोषणा करो

Updated On: Nov 03, 2018 07:29 PM IST

FP Staff

0
नेताओं-संतों ने लगाई हुंकार, राम मंदिर इसी साल बनेगा
Loading...

राम मंदिर निर्माण पर चर्चा के लिए साधु-संतों की दो दिनों की बैठक 'धर्मादेश' दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में शुरू हो गई है. दिल्ली में साधु-संतों का यह जमावड़ा प्रयागराज कुंभ से पहले हो रहा है. इन दो दिनों में देश भर के तीन हजार संत तालकटोरा स्‍टेडियम में इकट्ठा होंगे. इस बैठक में हिन्दू धर्म के सभी 125 सम्प्रदायों के संत हिस्सा ले रहे हैं. माना जा रहा है कि साधु संत इस कार्यक्रम के दौरान सरकार को राम मंदिर बनाने के लिए 'धर्मादेश' देने वाले हैं.

इस कार्यक्रम का आयोजन अखिल भारतीय संत समिति ने किया है. राम मंदिर पर फैसला सुप्रीम कोर्ट में है और लोकसभा चुनावों को देखते हुए मंदिर समर्थक नेताओं और संतों ने सरकार पर दबाव बनाना शुरु कर दिया है.

समारोह में साध्वी प्राची ने कहा कि- राम जी का मंदिर बनेगा धूमधाम से. 6 दिसंबर को ही हमें शिलान्यास करना है. अयोध्या के अंदर हिंदुस्तान के हिंदुओं को बुलाओ, राम मंदिर की घोषणा करो. किसी की जरुरत नहीं. राम मंदिर बन जाएगा.

सिर्फ साध्वी प्राची ही नहीं बल्कि रामजन्म भूमि न्यास के अध्यक्ष राम विलास वेदांती ने भी इस समारोह में बड़ा बयान दिया है. वेदांती ने कहा कि दिसंबर में राम मंदिर का निर्माण शुरू कर दिया जाएगा. साथ ही उनका दावा है किया कि अयोध्या में राम मंदिर बिना अध्यादेश के, आपसी सहमति के जरिए ही बनेगा और लखनऊ में एक मस्जिद बनाई जाएगी.

वहीं भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव ने कहा, 'यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि न्यायपालिका की तरफ से 1992 के पहले की स्थितियां फिर से बन रही हैं. उस समय भई राम मंदिर को लेकर टाल-मटोल हुई थी. इसी के चलते वहां उस वक्त कुछ ऐसे नतीजे आए थे, जिसकी कई प्रकार से व्याख्या की जा सकती है. उसी प्रकार की देरी फिर से हमारे धर्म में सुप्रीम कोर्ट के माध्यम से हो रही है. ये राजनीतिक मुद्दा नहीं है. पहले सुप्रीम कोर्ट ने अक्टूबर से इस मामले में अलग बेंच द्वारा सुनवाई करने की बात कही थी. मैं मानता हूं कि सुप्रीम कोर्ट के अपने अलग मुद्दे हो सकते हैं. अब जनवरी से मामले की सुनवाई करने की बात कर रहे हैं. इससे हिंदू संगठनों और हिंदू समाज में नाराजगी पैदा हुई. आरएसएस ने उसी बात को लेकर अपना पक्ष रखा है.'

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी वाराणसी में राम मंदिर बनने पर सहमति दर्ज कराई. उन्होंने कहा कि राम मंदिर बनेगा तो स्वभाविक है सबको खुशी होगी.

बाबा रामदेव ने कहा- यदि न्यायालय के निर्णय में देर हुई तो संसद में जरुर इसका बिल आएगा. आना ही चाहिए. राम जन्मभूमि पे राम मंदिर नहीं बनेगा तो किसका बनेगा? संतों/ राम भक्तों ने संकल्प किया अब राम मंदिर में और देर नहीं, मुझे लगता है इसी वर्ष शुभ समाचार देश को मिलेगा.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi