S M L

दूरबीन के जरिए पाकिस्तान में करतारपुर साहिब के दर्शन कर सकेंगे श्रद्धालु

सरकार ने सोमवार को ऐलान किया कि गुरु नानक देव की 550 वीं जयंती मनाने के लिए विभिन्न गतिविधियों का आयोजन भी किया जाएगा

Updated On: Nov 19, 2018 10:00 PM IST

Bhasha

0
दूरबीन के जरिए पाकिस्तान में करतारपुर साहिब के दर्शन कर सकेंगे श्रद्धालु

भारत और पाकिस्तान से लगती सरहद पर भारत सरकार एक हाई पावर दूरबीन लगाएगी ताकि सिख श्रद्धालु करतारपुर साहिब को देख सकें. यह सिखों के सर्वाधिक पवित्र धर्मस्थलों में से एक है. सरकार ने सोमवार को ऐलान किया कि गुरु नानक देव की 550 वीं जयंती मनाने के लिए विभिन्न गतिविधियों का आयोजन किया जाएगा. जिसके तहत उनकी याद में एक सिक्का और एक डाक टिकट जारी किया जाएगा.

गृह मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि इलेक्ट्रॉनिक और सूचना प्रोद्यौगिकी मंत्रालय पाकिस्तान में स्थित करतारपुर साहिब को देखने के लिए श्रद्धालुओं के लिए एक हाई पावर दूरबीन लगाएगा. जबकि रेल मंत्रालय एक ट्रेन चलाएगा जो सिख गुरु से संबंधित स्थानों से गुजरेगी. करतारपुर साहिब में गुरु नानक ने अपना अंतिम समय बिताया था.

मंत्रालय जारी करेगा सिक्का और डाक टिकट

गृह मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता वाली राष्ट्रीय कार्यान्वयन समिति ने उनकी याद में सिक्का और डाक टिकट जारी करने समेत अन्य कार्यक्रमों की घोषणा भी की है. इसके बाद यह फैसला किया गया कि गुरु नानक देव की 550वीं जयंती विभिन्न गतिविधियों के जरिए मनाई जाएगी. जिनकी शुरुआत देश और दुनिया में नवंबर से होगी.

बयान में कहा गया है, ‘साल 2019 में गुरु नानक देव जी की 550वीं जयंती है. वह एक महान संत और सिख पंथ के संस्थापक हैं. गुरु नानक की प्रेम, शांति और भाईचारे की शिक्षाओं की सार्वभौमिक अपील है.’ इस मौके पर केंद्रीय मंत्रालय एवं विभाग और विदेशों में भारतीय मिशन विभिन्न गतिविधियों का आयोजन करेंगे.

सिद्धू के दौरे से विवादों में आया था करतारपुर साहिब गुरुद्वारे का मुद्दा

करतारपुर साहिब का मुद्दा तब सुर्खियों में आ गया था जब पंजाब सरकार में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने दावा किया था कि पाकिस्तान के सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा ने उनसे कहा है कि पाकिस्तान करतारपुर साहिब गालियारा खोल सकता है. जो पंजाब में अंतरराष्ट्रीय सीमा के ठीक उस पार स्थित है.

दरअसल, सिद्धू अपने दोस्त क्रिकेटर से सियासत में आए इमरान खान के प्रधानमंत्री पद पर शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा लेने के लिए अगस्त में पाकिस्तान गए थे. वतन वापस लौटने के बाद उन्होंने पाकिस्तान सेना प्रमुख से हुई बातचीत के बारे में बताया था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi