S M L

दिल्ली में तेज हवा चलने के बावजूद एयर क्वालिटी ‘खराब’

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) के आंकड़ों के अनुसार दिल्ली के तीन इलाकों में एयर क्वालिटी ‘बेहद खराब’ रही जबकि 21 इलाकों में यह ‘खराब’ रही

Updated On: Nov 25, 2018 05:46 PM IST

Bhasha

0
दिल्ली में तेज हवा चलने के बावजूद एयर क्वालिटी ‘खराब’

दिल्ली में तेज हवा चलने से एयर क्वालिटी में सुधार हुआ है. लेकिन अभी भी यह ‘खराब’ की कैटेगरी में है. वायु गुणवत्ता और मौसम पूर्वानुमान प्रणाली का मानना है कि इस मौसम में एयर क्वालिटी में सुधार होना ‘असामान्य’ है.

वायु गुणवत्ता और मौसम पूर्वानुमान प्रणाली (SAFAR) के अनुसार इस दौरान 'एयर क्वालिटी इंडेक्स' (AQI) 232 है जो ‘खराब’ की कैटेगरी में आता है. केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) के आंकड़ों के अनुसार दिल्ली के तीन इलाकों में एयर क्वालिटी ‘बेहद खराब’ रही जबकि 21 इलाकों में यह ‘खराब’ रही.

इसके मुताबिक, पीएम 2.5 का स्तर 111 रहा जबकि पीएम 10 का स्तर 241 रहा. शून्य से 50 अंक तक वायु गुणवत्ता सूचकांक को ‘अच्छा’, 51 से 100 तक ‘संतोषजनक’, 101 से 200 तक ‘मध्यम’, 201 से 300 के स्तर को ‘खराब’, 301 से 400 के स्तर को ‘बहुत खराब’ और 401 से 500 के स्तर को ‘गंभीर’ श्रेणी में रखा जाता है.

कृत्रिम बारिश कराने की बन रही है योजना

कुछ दिनों पूर्व ही आईआईटी कानपुर के वैज्ञानिकों ने वायु प्रदूषण की गंभीर स्थिति का सामना कर रही दिल्ली में कृत्रिम बारिश कराने के लिए इसरो से मान हासिल करने सहित सभी तैयारियां कर ली थीं, बस मौसम के अनुकूल होने की देर है.

हालांकि, वैज्ञानिक इस बारे में आश्वस्त नहीं हैं कि यह (कृत्रिम बारिश) कब कराई जाएगी क्योंकि वे इसके लिए मौसम की अनुकूल परिस्थितियों का इंतजार कर रहे हैं. यह तकनीक महाराष्ट्र में और लखनऊ के कुछ हिस्सों में पहले ही परखी जा चुकी है. हालांकि, भारत में यह पहला मौका है जब वायु प्रदूषकों से हुए नुकसान का मुकाबला करने के लिए एक बड़े भूभाग पर कृत्रिम बारिश कराई जाएगी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi