S M L

प्रदूषण के बावजूद सर्दियों में खुले आसमान के नीचे रेस्तरां में खाने से नहीं चूकते हैं दिल्लीवाले

हर साल सर्दी में दिन के समय छत पर या खुले में चलने वाले रेस्तरां उन लोगों के लिए पसंदीदा जगह बन जाते हैं जो ऐसा करने में समर्थ हैं

Updated On: Jan 20, 2019 06:05 PM IST

Bhasha

0
प्रदूषण के बावजूद सर्दियों में खुले आसमान के नीचे रेस्तरां में खाने से नहीं चूकते हैं दिल्लीवाले

अगर आप दिल्ली आना चाहते हैं या पहले से ही दिल्ली में रहते हैं तो आपके सबसे पहले यहां के खाने की याद आती है. अब ये भी बताने की बात नहीं है कि दिल्ली में सबसे ज्यादा खुले आसमान के नीचे खाने के तमाम मशहूर रेस्तरां हैं. इसमें चाहे दिल्ली से सटा सुखदेव ढाबा हो या कनॉट प्लेस में स्थित अन्य रेस्तरां हों. ये दिल्लीवालों की पहली पसंद होते हैं.

दिल्ली में वायु की गुणवत्ता भले ही खराब हो लेकिन इससे बेपरवाह दिल्लीवासी खुले आसमान और सर्द हवा के बीच घर से बाहर जाने और खाने-पीने का लुत्फ उठाने से नहीं चूकते हैं.

हर साल सर्दी में दिन के समय छत पर या खुले में चलने वाले रेस्तरां उन लोगों के लिए पसंदीदा जगह बन जाते हैं जो ऐसा करने में समर्थ हैं. इस साल भी दिल्ली-एनसीआर में वायु गुणवत्ता सूचकांक गंभीर और बहुत खराब रहने के बावजूद स्थिति कोई अलग नहीं है. वैसे तो आतिथ्य क्षेत्र मंदी की स्थिति के लिए अपना मन बना चुका था लेकिन उनकी चिंताएं गलत साबित हुईं.

न्यू डेल्ही ट्रेडर्स एसोसिएशन के अनुसार खराब वायु गुणवत्ता का कारोबार पर कोई असर नहीं है. एसोसिएशन के जंकयार्ड कैफे, ओडियन सोशल, अनप्लग्ड कोर्टयार्ड और तमाशा जैसे खुले में बैठने की व्यवस्था वाले कई रेस्तरां हैं. एसोसिएशन के अध्यक्ष अतुल भार्गव ने कहा, ‘‘कोई सामान्य व्यक्ति प्रदूषण की ज्यादा परवाह नहीं करता. उनके अंदर मौसम का मजा लेने का जज्बा होता है.’’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi